गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

सुअरमार गढ़


त्तीसगढ़ अंचल में मृदा भित्ति दुर्ग बहुतायत में मिलते हैं। प्राचीन काल में जमीदार, सामंत या राजा सुरक्षा के लिए मैदानी क्षेत्र में मृदा भित्ति दुर्गों का निर्माण करते थे एवं पहाड़ी क्षेत्रों में उपयुक्त एवं सुरक्षित पठार प्राप्त होने पर वहाँ दुर्ग का निर्माण किया जाता था। दुर्गों के चारों तरफ़ गहरी खाई (परिखा) हुआ करती थी। जिसमें भरा हुआ पानी गढ की सुरक्षा एवं निस्तारी के काम आता था। ऐसा ही एक दुर्ग रायपुर से लगभग 115 किलोमीटर पूर्व दिशा में स्थित है, जिसे सुअरमाल गढ़ या सुअरमार गढ़ कहा जाता है। इसे रायपुर राज का 13 वां गढ़ माना जाता है। वर्तमान महासमुंद जिले की बागबाहरा तहसील से 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह गढ़ गोंड़ राजाओं के आधिपत्य में था। वर्तमान में कोमाखान में इन गोंड़ राजाओं के वंशज निवास करते हैं। कोमाखान में जीर्ण शीर्ण अवस्था में इनका महल भी है।
चित्र पर चटका लगा कर देखें

जनश्रुति है कि इस गढ़ के गढ़पति राजा भईना को को गोंड बंधु डूडी शाह एवं कोहगी शाह ने परास्त कर सुअरमार जमीदारी की नींव डाली थी। इस जमीदारी का सुअरमार नाम होने के पार्श्व में रोचक किंवदन्ती है कि इस गढ़ को कलचुरियों जीतने का काफ़ी प्रयास किया परन्तु सफ़लता नहीं मिली। पलासिनी (जोंक) नदी के किनारे डूडी शाह एवं कोंहंगी शाह नामक भाईयों ने 8 एकड़ भूमि पर चने की फ़सल उगाई थी। इस फ़सल को कोई जानवर रात्रि में आकर नष्ट कर जाता था। भाईयों ने उस जानवर का पता करने के लिए रात्रि की चौकीदारी के दौरान उन्हे विशालकाय पाँच पैर वाला सुअर फ़सल नष्ट करता हुआ दिखाई दिया। उन्होने तीर चलाकर उसे घायल कर दिया। 
सुअरमार गढ़ का आकाशिय दृश्य

वह जानवर चिंघाड़ कर भागा, पीछा करने पर वह गढ़ पटना पहुंचा। वहां जाने पर इन्हे पता चला कि यह पाँच पैर का सुअर नहीं हाथी है। उन्होने दरबार में पहुंच कर शिकार पर दावा किया और हाथी को खींच कर बाहर निकाल लाए। गढ़ पटना का राजा इनके दुस्साहस से चकित था, उसने कूटनीति खेली। इन्हे सजा देने की बजाए सोनई गढ़ (नर्रा) को इनसे कब्जा करवाने की सोची। उसने सोनई गढ के राजा भोईना को मार कर राज्य जीतने कहा। दोनों भाईयों ने वीरता पूर्वक लड़कर राजा भोईना को मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद गढ पटना के राजा ने इन भाईयों को वह राज्य सौंप दिया। हाथी को सुअर समझ कर मारने के कारण सोनई गढ़ का नाम सुअरमार गढ़ पड़ा।
सुअरमार गढ़ की पहाड़ी

छत्तीसगढ़ अंचल में सोनई रुपई की चर्चा प्रत्येक जगह पर मिल जाती है। गत वर्ष देऊरपारा (नगरी) जाने पर वहाँ तालाब के किनारे सोनई रुपई की चर्चा सुनने मिली। वहाँ मंदिर के पुजारी राजेन्द्र पुरी ने इन्हें धन से जोड़ दिया था और बताया था कि इस स्थान पर हंडा ढूंढने वाले आते हैं और यह सोनई और रुपई है। सुअरमारगढ़ का प्राचीन नाम सोनई डोंगर था। इसे भी सोनई रुपई के साथ संबंध किया गया है। किंवदन्ती है कि सोनई रुपई नामक दो बहनें गोंडवाना राज्य की पराक्रमी योद्धा थी। ये बहनें प्रजावत्सल होने के साथ न्यायप्रिय होने के कारण प्रजा में सम्मानित थी। इनका नाम सोना और रुपा था जो कालांतर में सोनई और रुपई के रुप में प्रचलित हो गया। इन बहनों कि बहादुरी के चर्चे दक्षिण कोसल में सभी स्थानों पर होने के कारण इन्हें देवी के रुप में पूजा जाने लगा। इसलिए अन्य स्थानों पर भी सोनई रुपई की कहानी मिलती है।
सुअरमार गढ़ में अतुल प्रधान

सुअरमारगढ़ की परिखा 25 एकड़ में फ़ैली हुई है। पहाड़ी के पठार पर राजनिवास के अवशेष मिलते हैं। यह हिस्सा दो भागों में विभाजित है जिसे खोलगोशान कहा जाता है इसके अगुआ को गणपति कहते हैं। देवियाँ गढ पर विराजा करती हैं, यहाँ की गढ देवी को महामाया कहा जाता है। कहा जाता है कि पूर्व में देवी को खुश करने के लिए नरबलि दी जाती थी। कालांतर में भैंसों की बलि दी जाने लगी अब बकरों और मुर्गों की बली दी जाती है। खोलगोशान के नीचे संत कुटीर है। राजा गुप्त मंत्रणा करने लिए इस कुटी में राजगुरु से मिलने आते थे। यहाँ का दशहरा प्रसिद्ध है, दशहरा मेला दस दिनों तक चला करता था। वर्तमान में नरबलि की प्रथा समाप्त हो चुकी है।
खंडहर होता कोमाखान का महल

गढ का राजा न्यायप्रिय था, वह न्याय पाखर पर बैठ कर प्रजा की फ़रियाद सुना करता था और न्याय दिया करता था। दंड देने के लिए अपराधी को पत्थर से बांध कर पहाड़ी से नीचे फ़ेंक दिया जाता था। कहते हैं कि जो अपराधी पहाड़ी से गिरकर भी जिंदा बच जाता था उसे कुलिया गांव के सरार में दफ़ना दिया जाता था। इसलिए तालाब को टोनही सरार कहा जाने लगा। वैसे भी मान्यता है कि टोनहीं मृत शरीर की साधना करके उसे जीवित कर लेती हैं और साधना करने के लिए एकांत के रुप में श्मशान या सुनसान स्थानों का उपयोग करती हैं। टोनही सरार की मान्यता के पीछे एक कारण यह भी हो सकता है। किसी जमाने में यह स्थान दुर्गम वनों से आच्छादित क्षेत्र था। वर्तमान में सारे वन कट चुके हैं। गढ़ के एक स्थान को रानी पासा कहा जाता है, किंवदन्ती है कि पूर्व में रानियाँ मनोरंजनार्थ यहां पर पासा खेला करती थी।
कोमाखान का महल

कोमाखान रियासत के ठाकुर उमराव सिंह द्वारा सन 1856 में गढ परिसर में खल्लारी माता के मंदिर का निर्माण किया गया। जिसकी पूजा अर्चना सतत जारी है। वर्तमान में सुअरमार गढ़ के पूर्व जमींदार ठाकुर भानुप्रताप सिंह के प्रपोत्र ठा उदय प्रताप सिंह एवं ठाकुर थियेन्द्र प्रताप सिंह मौजूद हैं तथा कोमाखान में निवास करते हैं। इनका पुराना राजमहल भी मौजुद है जो वर्तमान में खंडहर हो चुका है। इन्होने सुअरमार गढ़ के विकास के लिए 33 एकड़ भूमि का दान किया है। सुअरमार जाने के लिए  बस एवं रेल्वे की सुविधा उपलब्ध है। सुअरमार गढ़ के मुख्यालय कोमाखान से मात्र 2 किलोमीटर की दूरी पर रेल्वे स्टेशन हैं। जहां प्रतिदिन 6 रेलगाड़ियों का ठहराव है। रायपुर एवं महासमुंद से यहाँ के लिए बस एवं टैक्सी सेवा भी उपलब्ध है। किसी जमाने में सुअरमार गढ़ छत्तीसगढ़ की महत्वपूर्ण रियासत थी। जिसके अवशेष अभी भी देखे जा सकते हैं।

फ़ोटो - अतुल प्रधान से साभार 

15 टिप्‍पणियां:

  1. रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता है
    चाँद पागल है अंधेरे में निकल पड़ता है
    मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नही काट सकता
    कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता है
    कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर
    अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता है
    ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक है मगर दिल अक्सर
    नाम सुनता है तुम्हारा तो उछल पड़ता है
    उसकी याद आई है साँसों ज़रा धीरे चलो
    धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. पुराने शहरों के मंज़र निकलने लगते हैं
    ज़मीं जहाँ भी खुले घर निकलने लगते हैं
    मैं खोलता हूँ सदफ़ मोतियों के चक्कर में
    मगर यहाँ भी समन्दर निकलने लगते हैं
    हसीन लगते हैं जाड़ों में सुबह के मंज़र
    सितारे धूप पहनकर निकलने लगते हैं
    बुरे दिनों से बचाना मुझे मेरे मौला
    क़रीबी दोस्त भी बचकर निकलने लगते हैं
    बुलन्दियों का तसव्वुर भी ख़ूब होता है
    कभी कभी तो मेरे पर निकलने लगते हैं
    अगर ख़्याल भी आए कि तुझको ख़त लिक्खूँ
    तो घोंसलों से कबूतर निकलने लगते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. Interesting , Lalit ji, नाम तो सूअरमार गढ़ रखा पर सारे सूंवर नहीं मार पाए :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीर्ण शीर्ण अवस्था बची पुरातात्विक धरोहर को जानकारी और चित्रों के माध्यम से सहेजने का अत्यंत सराहनीय प्रयास... ऐसी कितनी ही ऐतिहासिक धरोहरें हैं जो उचित सुरक्षा के आभाव में अपना अस्तित्व खोती जा रही हैं. विस्तारपूर्वक जानकारी देने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं

  5. सोना /रूपा करे झिलमिल झिलमिल , गीत याद आ रहा है . शायद यही से सम्बंधित हो !
    रोचक जानकारी सुअरमार गढ़ की !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अद्भुत यायावरी मैं कैसे मान लूँ की जगह घूम कर आये हैं हमें भी समय दीजिये घुमाइए तो बात बने और हम आपकी बात माने .

    उत्तर देंहटाएं
  7. समय कितना बलवान होता है ..
    कल के महल आज जीर्ण शीर्ण हालत में ..
    पूरे अंचल में सोनई रूपई के मात्र किस्‍से ही बचे हैं ..
    जानकारी ढंढ ढूंढकर निकालने का आपका प्रयास सराहनीय है ..
    हमेशा की तरह ज्ञानवर्द्धक लेख के लिए आपका बहुत बहुत आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस पुरातात्विक विरासत को सहेजना बहुत जरुरी है !
    बहुत बढ़िया ऐतिहासिक जानकारी देने के लिए आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. नामकरण एक नहीं कई कहानी लिये होते हैं, कभी कभी नाम पहले का ही चला रहता है और पूरा इतिहास उस पर बन जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बढि़या जानकारी दी आपने.
    ठा उदय प्रताप सिंह एवं ठाकुर थियेन्द्र प्रताप सिंह के पिता ठा नरेन्‍द्र प्रताप सिंह जी, तोप से ले कर तमंचों तक, पालतू जानवरों-कुत्‍तों, मोटर-कार और मौसम विज्ञान के (सिद्धांत और व्‍यवहार दोनों में) प्रकाण्‍ड पंडित थे.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुअरमार गढ़ की बहुत बढ़िया ऐतिहासिक जानकारी प्रस्तुति हेतु आभार,

    उत्तर देंहटाएं
  12. ऐसे जीर्ण अवस्था मे पड़े महलों को देखकर अनायास ही दिल भर आता है की कभी ये भी बहुत आबाद रहे होंगे यहाँ भी हर्षो उल्लास से वशीभूत जीवन फला फुला होगा। जानकारी के लिए बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. Bahut hi badiya prayas mahoday k dvra atit k gourav ab kho gya hai

    उत्तर देंहटाएं
  14. Purane jamane ki bate bata kar aapne hame kritart kardiya thanks 🙏

    उत्तर देंहटाएं