सोमवार, 17 जून 2013

पापा जादूगर ..........

जादूगर तरह तरह के खेल दिखा रहा था, बच्चे मंत्र मुग्ध होकर उसके हैरत अंगेज करतब देख रहे थे। कभी डिब्बे से कबूतर निकालता और उसे गायब कर देता तो कभी रंग बिरंगे फ़ूल निकाल कर दिखाता। कभी छोटी सी बॉल को फ़ुटबाल बना देता तो कभी रुमाल को हवा में गायब कर देता। उसकी छड़ी में गजब का जादू था, उसे घुमाते ही पलक झपकते जादू हो जाता। बच्चों के मन में कौतुहल था कि जादूगर ये सब कैसे करता है। सब बच्चों के बीच से उदय उठा और जादूगर के पास पहुंचा। उसे अपनी खिलौना कार दी और बोला - इसे बड़ा कर दो। जादूगर चकित होकर उदय की ओर देखकर बोला - "बेटा कार को बड़ा करने वाला जादू सिर्फ़ आपके पापा ही दिखा सकते हैं, वे ही इस कार को बड़ा कर सकते हैं, मैं नहीं। उस वक्त उदय तीन साल का था। अब वह मेरे से जिद करने लगा कि कार को बड़ा करो। मैने उससे कुछ दिनों का समय लिया और कार को बड़ा कर दिया।

जादूगर ने यह बात सहज ही कही थी लेकिन उसमें गुढार्थ था। पापा ही दुनिया के एकमात्र ऐसे जादूगर होते हैं जो परिवार की सभी मांगों को पूरा कर सकते हैं। बच्चा हो या बूढा हो, सभी की आशाएं उसके साथ लगी रहती हैं। दुनिया के महान जादूगर होते हैं पापा। मेरे पापा भी जादूगर थे, मैं सोचता था कि उनके पास जादू की असीमित शक्तियाँ हैं। उनके पास नाग मणि है, जो चाहो मांग लो। मनवांछित मिल जाएगा। लेकिन यह जादू क्या होता है और कैसे होता है, इसका रहस्य पापा बनने के बाद ही पता चलता है। जो चीजें पलक झपकते ही प्राप्त होने की कामना करने बाद प्राप्त हो जाती थी वे किस तरह से आती हैं और उस जादू को दिखाने के लिए कौन से मंत्र को सिद्ध करके उसका सफ़ल प्रयोग करना पड़ता है। यह सिर्फ़ पापा ही जानते हैं और कोई नहीं। उदय भी जान जाएगा कि पापा ने छोटी सी कार को बड़ा कैसे किया जब उसका बेटा उससे यह इच्छा जाहिर करेगा।

पापा को हमेशा कई मोर्चों पर लड़ना होता है, उसके लिए युद्ध के कई मोर्चे खुले होते हैं। इतने मोर्चों पर कोई बहादूर योद्धा ही लड़ कर विजय प्राप्त कर सकता है। गृहस्थ जीवन में प्रवेश करते ही दो मोर्चे तो सभी के लिए खुल जाते हैं। अर्थ अर्जन करना और गृहस्थी की आवश्यकताओं की पूर्ति करना। कुछ कम खट कर अधिक कमा लेते हैं तो कुछ अधिक भाग दौड़ करने के बाद भी गृहस्थी की आवश्यकताओं की पूर्ति ही कर पाते हैं। लेकिन बच्चों को हमेशा पापा से जादू की ही उम्मीद होती है, उनके सपने अनंत होते हैं और सभी सपने मूर्त हो जाएं यह किसी भी जादूगर से संभव नहीं है। कल्पनाओं की  उड़ाने अनंत होती हैं। आज एक बच्चे की कल्पनाओं को साकार करने के लिए सारा परिवार तैयार रहता है। लेकिन कभी वह समय भी था जब कल्पनाएं और आकांक्षाए सारी जिन्दगी पूर्ण नहीं हो पाती थी।


जादूगर पापा तो प्रत्येक युग में हुए हैं, समय के परिवर्तन के साथ उनका जादू भी परिष्कृत होते गया। पहले होली और दीवाली ही नए कपड़े सिलाए जाते थे। घर में दर्जी अपनी मशीन लेकर आता था और महीने भर सभी के कपड़े सिलता था। उस जमाने में सिले सिलाए कपड़ों को अच्छा नहीं समझा जाता था। कहा जाता था कि - न जाने किस बीमार या मुर्दे के उतार कर सिले सिलाए कपड़े बेचे जाते हैं। इसलिए कपड़े सिलवा कर ही पहने जाते थे। आज वे बीमारों और मुर्दों के कपड़े घर घर में मौजूद हैं। जब भी मांग हुई और पापा को जादू से कपड़े उपलब्ध करवाने ही पड़ते हैं, वार-त्यौहार की बात क्या की जाए। एक पट्टी सिलेट में साल भर निकल जाता था। आज नर्सरी से ही कापियों और पुस्तकों का ढेर लगाना पड़ता है। एक गणवेश सारे साल चल जाती थी। लेकिन आज 5-5 गणवेशों का प्रबंध करना पड़ता है। वर्तमान में बढती हुई मंहगाई को देखते हुए घर-गृहस्थी के सामान का प्रबंध करना भी किसी जादू से कम नहीं है।


3 साल पहले उदय ने जिद पकड़ ली कि उसे छोटी सायकिल चाहिए। जबकि घर में 2 छोटी सायकिलें मौजूद थी। लेकिन उसे तो नई चाहिए थी। नई सायकिल आते ही कुछ दिन चलाई फ़िर उसके टायर आरी से काट कर देखे कि उसमें हवा कहाँ होती है। टायर शहीद हो गए लेकिन हवा की उपस्थिति का पता नहीं चला। थोड़े दिन छोटी सायकिल चला कर बड़ी सायकिल पर हाथ मारने लगा। छोटी सायकिल मुरचा खाई हुई पड़ी है। अब स्कूटी की मांग चल रही है। सायकिल को स्कूटी में बदलने का जादू सिर्फ़ पापा ही दिखा सकते हैं, दुनिया का अन्य कोई जादूगर नहीं दिखा सकता। हम 24 इंच की सायकिल से ही कैंची चलाना सीखे थे। छोटी सायकिल चलाने का सपना तो अधूरा ही रह गया। शायद मेरे पापा को सायकिल छोटी करने का जादू नहीं आता था। बदलते समय के साथ पापाओं को यह सब जादू आना जरुरी हो गया है। जिससे गृहस्थी की हर जरुरतें पूरी हो सकें और बच्चे कह सकें मेरे पापा बहुत बड़े जादूगर थे।

28 टिप्‍पणियां:

  1. यह सिर्फ़ पापा ही जानते हैं और कोई नहीं। उदय भी जान जाएगा कि पापा ने छोटी सी कार को बड़ा कैसे किया जब उसका बेटा उससे यह इच्छा जाहिर करेगा।
    बदलते समय के साथ पापाओं को यह सब जादू आना जरुरी हो गया है। जिससे गृहस्थी की हर जरुरतें पूरी हो सकें और बच्चे कह सकें की मेरे पापा बहुत बड़े जादूगर थे।
    बहुत सटीक लिखा है आपने .. बाजार में बढती महंगाई और घर की बढती जरूरतों के मध्‍य तालमेल बिठाकर घर गृहस्‍थी की गाडी को खींचना सचमुच जादूगरी ही है !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचमुच एक पुत्र के लिए उसके पिता दुनिया के सबसे बड़े जादूगर होते हैं... ज़िन्दगी की सच्चाई से अवगत कराते सार्थक आलेख के लिए आपका बहुत-बहुत आभार और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. बात तो ऐसी ही है. हर बेटा अपने बाप को जादूगर ही समझता है, क्योंकि बाप किस तरह से उनकी फ़रमाईशों को पूरा करता है यह बच्चे नही जानते, बस उनके लिये तो यही जादू है, बाप कितना कष्ट सहकर यह सब जुगाड करता है. बहुत ही गूढ पोस्ट, और बिल्कुल सही सलाह भी दी है आपने, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. पापा जादू कैसे करते हैं यह रहस्य तो पापा बनने के बाद ही पता चल पाता है .....बहुत पते की बात कही आपने ..सत्य से साक्षात्कार
    कराता सार्थक आलेख....साभार....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. ललित जी,
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है। आज के दौर में जहां स्वयं की बैटन को समयानुकूल दिशा देते हुए वर्तमान के लिए उसे प्रासंगिक बना देने की कला अद्भुत है। आपके लेखन शैली और भावाभिव्यक्ति के हम कायल हैं।
    अभिनन्दन आपका...

    वन्दे मातरम

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (18-06-2013) के चर्चा मंच -1279 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर. इसीलिए पिता पर गजल पडी .
    हाथ हमेशा तंग रहा पर पता नहीं लगने पाया
    हम बच्चों की खातिर हरदम रहते 'अक्षय-कोष' पिता

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस जादूगिरी में दिनों दिन तरक्की होती रहे।
    शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेटे के लिए बाप से बढ़कर कोई जादूगर नही ,,,

    RECENT POST: जिन्दगी,

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज के युग के हर ''पापा'' की जय हो ....जो अपने-अपने जादू में माहिर हैं

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज की ब्लॉग बुलेटिन जेब कट गई.... ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  12. पापाओं की जादू करामातें बढ़ती रहें - बस अब तो यही मनाना बस में रह गया है और बच्चे भी ज़मीन पर अपने पाँव रखे रहें!

    उत्तर देंहटाएं
  13. पापा होते तो जादूगर ही हैं , हमारे भी और हमारे बच्चों के भी :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. बच्चों के लिये पापा सब कुछ कर सकता है, किसी जादूगर से कम नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. पापा सच ही जादूगर होते हैं ..... सारी इच्छाएन जो पूरी करते हैं .... और एहसास भी नहीं होने देते कि ये सब कैसे किया ?

    उत्तर देंहटाएं

  16. अभीतक तो पापा बच्चों केलिए जादूगर है परन्तु आनेवाले दिनों में बच्चे ही पापा के लिए जादूगर होंगे.
    latest post पिता
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !
    l

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपने सही कहा पापा तो पापा हे उनके जेसा इस जंहा में कोई नहीं हे !
    इन्टरनेट और कंप्यूटर दुनिया की रोचक जानकारियाँ, टिप्स और ट्रिक्स, वेबसाइट, ब्लॉग, मोबाइल ट्रिक्स, सॉफ्टवेयर, सफलता के मंत्र, काम के नुस्खे, अजीबो-गरीब जानकारियाँ और अच्छी बाते पडने के लिए मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत हे ! अगर मेरा ब्लॉग अच्छा लगे तो अपने विचार दे और इस ब्लॉग से जुड़े ! अगर मेरे ब्लॉग में किसी भी प्रकार की कमी हो तो मुझे जरुर बताये !
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए निचे क्लिक करे !
    internet and pc releted tips

    उत्तर देंहटाएं
  18. हाँ सही कहा आपने ललित भाई जी... समय के साथ बदलना जरुरी है।
    जादूगर ही नही आज पापा ए टी एम कार्ड भी हो गये हैं बच्चों के लिये :)

    उत्तर देंहटाएं
  19. यायावर ही इतनी खुबसूरत बात पिता की कर सकता है जो पिता ने भोगा है उसे ही लिपि बद्ध कर दिया अनोखा सत्य वाह

    उत्तर देंहटाएं
  20. हमारी टिप्‍पणी, छू मंतर.

    उत्तर देंहटाएं
  21. मेरे दद्दाजी बहुत बड़े जादूगर थे. उनके जादुई खेल मैं आजन्म नहीं समझ पाया. वे अपनी विद्या किसी दूसरे को बताते भी नहीं थे, यहाँ तक की अपने बच्चों को भी. वे अपनी कला अपने साथ ले गए और हम..? " कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे."

    उत्तर देंहटाएं
  22. दुनिया के सबसे बड़े जादूगर होते हैं पिता

    उत्तर देंहटाएं
  23. बेटे को मालूम है कि पापा पुराने जादूगर

    उत्तर देंहटाएं
  24. सबसे बड़े जादूगर तो पापाजी ही हैं सच में....एक बार में फिर से आ गया हूँ ..ज़रा मुझे भी अंगुली कीजिये गा

    उत्तर देंहटाएं