गुरुवार, 14 फ़रवरी 2013

वेलेन्टाईन डे है आया


रगों का दर्द पुराना फ़िर उभर आया
अंगुठा हिलाया कीबोर्ड खटखटाया
मुखड़ा हुआ पूरा तो अंतरा ये बोला
आरकुट गया फ़ेसबुक का जमाना
हो गए न घायल काहे दिल लगाया

माउस सुन रहा था मौज के मुड में
आ के वह बोला हो फ़ील के गुड़ में
मौसमे बहार था गोली जब घुमती
दुपट्ठे से साफ़ कर बारम्बार चूमती
आप्टिकल ने आके ठिकाने लगाया

कीबोर्ड न चुप रहा उसने मुंह खोला
जर्दे की पीक मारी खंखार के बोला
जबसे है बसंत मेरा हाल बुरा यारों
खूब खटखटाके पिंजर हिला डाला
बड़ा ये रंगीला मौसम का भरमाया

माईक्रोटेक मानिटर ने राज खोला
हम थे जवान गरदन हिलाके बोला
रुतबा था हमारा लोग रंग देखते थे
मरती थी हम पे भी कुड़ियाँ ढेर सारी
एलईडी के दिन हैं क्या जमाना आया

रैम क्यूँ चुप रहती मिसरी सी घोली
थोड़ा इठला कर मधुर स्वर में बोली
थी जब मैं 16 की सीडी खूब चलाई
फ़्लापी रही साथ फ़िल्म भी दिखाई
अब न पूछते कोई कैसी है यह माया

सुन रहा था सब डेस्कटॉप मुंह फ़ाड़े
आँखों में था आँसू रोया मार दहाड़ें
लैपटॉप मोबाईल ने कूड़ा कर डाला
जिसको भी देखो हाथ में है साला
मनाओ वेलेन्टाईन दर्द उभर आया

(C) तोप रायपुरी

12 टिप्‍पणियां:

  1. माउस मस्तिया रहा है,
    बेमतलबै बतिया रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रवीण पाण्डेय

    बुखार जो चढ़ा है :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. HARSHVARDHAN

    पोस्ट लिंक नहीं लगाना,अन्यथा कमेंट डिलिट हो जाएगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसका है माउस
    किसका है कीबोर्ड
    किसका डेस्‍कटाप
    किसका लैपटाप
    सब कुछ है
    समाया मोबाइल में
    हो जा वेलेंटाइन
    तू भी मोबाइल।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया शब्दों का सुन्दर संयोजन ...!!
    बसंत पंचमी की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. ha ha ha ha .

    लाल के बाद , बसंती रंग -- दोनों मुबारक .

    उत्तर देंहटाएं
  7. तुम भी मनाओ न किसने मना किया ...
    एक फूल का बोझ उठाओ न किसने मना किया .....:p

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह क्या बात है. गेजेट्स और सोशल साइट्स की पूरी जनम पत्री के साथ वेलेन्टाईन डे मनाया... बहुत-बहुत शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं