इसके द्वारा संचालित Blogger.

 

अथ श्री कर्ण पुराण कथा --- ललित शर्मा

कान शरीर का महत्वपूर्ण अंग है इसके बगैर जीवन बहुत कठिन है। जो बहरा होता है वह गूंगा भी होता है। मतलब श्रवण शक्ति अकेले नहीं जाती, संग वाक शक्ति को भी ले जाती है। कान की महिमा निराली है। एक बार की बात है, मैं  जैसे ही रेल्वे स्टेशन पहुंचा, गाड़ी पार्किंग में लगाने लगा तो जोर से आवाज आई “बजाऊं क्या तेरे कान के नीचे?” पलट के देखा तो दो बंदे जूझ रहे थे…एक-दूसरे का कालर पकड़ कर गरियाते हुए……. मैं आगे बढ़ लिया, ट्रेन का समय होने वाला था, मेहमान आने वाले थे. फालतू में इनके पंगे में कौन पड़े? चलते-चलते कह ही दिया. अरे कान का क्या दोष है? बजाना है तो एक दूसरे को बजाओ.” 

दो बंदे लड़ रहे हैं, खिंचाई कान की हो रही है। कान का क्या दोष है? गलती कोई करता है और कान पकड़ा जाता है. माल खाए गंगा राम और मार खाए मनबोध…….. कान पकड़ना बड़ा काम आता था …….. हम जब कोई गलती करते, बदमाशी करते या स्कुल में किसी को पीट देते, जब उलाहना घर पर आता तो दादी के सामने पहले ही कान पकड कर खड़े हो जाते कि अब से कोई गलती नहीं करेंगे………. अब कोई उलाहना लेकर घर  नहीं आएगा………  मार से बचने के लिए कान पकड़ना एक हथियार का काम आता और हम बच जाते.

कभी हमारा छोटा भाई दादी के कान भर देता तो फिर मुसीबत ही खड़ी हो जाती थी. बस फिर कोई सुनवाई नहीं होती ….. दादी की छड़ी चल ही जाती……….. लेकिन वो मुझे बहुत ही प्यार करती थी……… सहज ही मेरी खिलाफ किसी की बात पर विश्वास नहीं करती ……. पहले उसकी सत्यता जांचती …….. कान की कच्ची नहीं थी. क्योंकि कान का कच्चा आदमी किसी की भी बात पर विश्वास कर लेता है…….. भले ही वो गलत हो………. और बाद में भले ही उसका गलत परिणाम आये और पछताना पड़े…………. लेकिन एक बार तो मन की कर ही लेता है………. इसलिए कान के कच्चे आदमी विश्वसनीय नहीं होते और इनसे बचना चाहिए…….

कुछ लोग कान फूंकने में माहिर होते हैं……… धीरे से कान में फूंक मार कर चल देते हैं फिर तमाशा देखते है…….. मौज लेते है…….. अब तक की सबसे बड़ी मौज कान फूंक कर मंथरा ने ली थी………. धीरे से माता कैकई का कान फूंक दिया, राम का बनवास हो गया। देखिये कान फूंकने तक मंथरा का उल्लेख है उसके बाद रामायण में सभी दृश्यों से वह गायब हो गई है, कहीं कोने छिपकर मौज ले  रही है…………. ऐसे कान फूंका जाता है…… 

यह एक परंपरा ही बन गई है……. किसी को गिरना हो या चढ़ाना हो………… दो मित्रों या परिवारों के बीच लड़ाई झगड़ा करवाना हो ……… बस कान फूंको और दूर खड़े होकर तमाशा देखो. कान भरने और फूंकने में वही अंतर है जिंतना पकवान और फास्ट फ़ूड में है………. कान भरने के लिए भरपूर सामग्री चाहिए……….. क्योंकि कान इतना गहरा है कि इसे जीवन भर भी भरें, पूरा भर ही नहीं पाता है…. कान भरने का असर देर से होता है तथा देर तक रहता है……… लेकिन कान फूंकने के लिए ज्यादा समय और मगज खपाना नहीं पड़ता चलते-चलते फूंक मारा और अगले की वाट लग गयी…… फ़िर वह इस तरह चक्कर लगाते फ़िरेगा जैसे कान में कीड़े पड़ गए और उसे चैन नहीं दे रहे हों………।

एक कन्फुकिया गुरूजी हैं…………… जो कान में ऐसे फूंक मारते है कि जीवन भर पूरे परिवार को कई पीढ़ी का गुलाम बना लेते हैं ………….. कुल मिला कर कुलगुरु हो गये…….. चेले का कान गुरु की एक ही फूंक से भर से भर जाता है……… बस उसके बाद चेले को किसी दुसरे की बात नहीं सुनाई देती क्योंकि कान में जगह ही नहीं है. अब वह कान उसका नहीं रहा गुरूजी का हो गया……. कान में सिर्फ गुरूजी का ही आदेश सुनाई देगा…………. गुरूजी अगर कुंए में कूदने कहेंगे तो कूद जायेगा…….. इसे कहते हैं कान फूंकी गुलामी………. चेला गुरूजी की सभी बातें कान देकर सुनता है………

कान फूंकाया चेला कुछ दिनों में पदोन्नत होकर कनवा बन जाता है…….. कनवा बनकर योगी भाव को प्राप्त का कर लेता फिर सारे संसार को एक ही आँख से देखता है………….. बस यहीं से उसे समदृष्टि प्राप्त हो जाती है…….. गीता में भी भगवान कृष्ण ने कहा है स्मुत्वं योग उच्चते…… इस तरह चेला समदृष्टि प्राप्त कर परमगति की ओर बढ़ता है …….. कान लगाने से यह लाभ होता है कि  एक दिन गुरु के भी कान काटने लग जाता है…… उसके चेलों की संख्या बढ़ जाती है………. गुरु बैंगन और चेला पनीर हो गया ……. गुरु छाछ और चेला खीर हो गया.

कान शरीर का महत्त्व पूर्ण अंग है बड़े-बड़े योगी और महापुरुष इससे जूझते रहे हैं…… आप शरीर की सभी इन्द्रियों पर काबू पा सकते हैं उन्हें साध सकते हैं लेकिन कान को साधना मुस्किल ही नहीं असम्भव है……….कहीं पर भी कानाफूसी होती है, बस आपके कान वही पर लग जाते हैं…….क्योकि कानाफूसी सुनने के लिए दीवारों के भी कान होते हैं……. अब भले ही आपके कान में कोई बात ना पड़े लेकिन आप शक करने लग जाते हैं कि मेरे बारे में ही कुछ कह रहा था…….. क्योंकि ये कान स्वयम की बुराई सुनना पसंद नहीं करते……….. अच्छाई सुनना ही पसंद करते है……… भले ही कोई सामने झूठी प्रशंसा कर रहा हो…. और पीठ पीछे कान के नीचे बजाता हो……. इसलिए श्रवण इन्द्री को साधना बड़ा ही कठिन है……….

आज कल कान के रास्ते एक भयंकर बीमारी शरीर में प्रवेश कर रही है………जिससे लाखों लोग असमय ही मारे जा रहे हैं… किसी ने कुछ कह दिया तथा कान में सुनाई दिया तो रक्त चाप बढ़ जाता है दिल का रोग हो जाता है और हृदयघात से राम नाम सत्य हो जाता है…. हमारे पूर्वज इस बीमारी से ग्रसित नहीं होते थे क्योंकि वे बात एक कान से सुनकर दुसरे कान से निकलने की कला जानते थे. उसे अपने दिमाग में जमा नहीं करते थे……… कचरा जमा नहीं होता था और सुखी रहते थे……. वर्तमान युग में लोग दोनो कानो में हेड फोन लगा लेते हैं और बस जो कुछ अन्दर आता है और वह जमा होते रहता है…… स्वस्थ  रहने के लिए एक कान से प्रवेश और दुसरे कान से निकास की व्यवस्था जरुरी है………… 

कान महत्व भी समझना जरुरी है….  क्योकि अगर आप कहीं पर गलत हो गये तो कान पर जूता रखने के लिए लोग तैयार बैठे हैं………… ऐसा ना हो आपको खड़े खड़े कान खुजाना पड़ जाये……… इसलिए कान के महत्त्व को समझे और बिना मतलब किसी के कान मरोड़ना छोड़ दें तो आपके स्वास्थ्य के लिए लाभ दायक ही होगा…………  महत्वपूर्ण बातों को कान देकर सुनना चाहिए याने एकाग्र चित्त होकर……..अगर कान में तेल डाल के बैठे रहे तो ज्ञान से वंचित होने की आशंका है……इसलिए कान खुले रखने में ही भलाई है………।
॥ इति श्री कर्ण पुराण कथा ॥ 

Comments :

22 टिप्पणियाँ to “अथ श्री कर्ण पुराण कथा --- ललित शर्मा”
संगीता पुरी ने कहा…
on 

कर्ण पुराण कथा ..
बहुत बढिया लिखा !!

Sunil Kumar ने कहा…
on 

कान की महिमा निराली ही हैं इसका प्रयोग संभाल करे अच्छी पोस्ट

वाणी गीत ने कहा…
on 

कान की ऐसी ही महिमा है तभी तो कान पकड़ कर गुरूजी अकल ठिकाने लगाया करते थे , अब तो बेचारे गुरुओं की हिम्मत ही नहीं होती ...
कच्चे कान वालों के कान भर कर क्या क्या काण्ड किये जा सकते हैं , ब्लॉग जगत भी कहाँ अछूता है :)
कर्ण कथा अच्छी लगी !

P.N. Subramanian ने कहा…
on 

कर्ण पुराण बने रहीस.

दर्शन कौर 'दर्शी' ने कहा…
on 

सर्व प्रथम ब्लोगिग पर वापसी के लिए धन्यवाद ....हम भी परछाई बने जल्दी ही आने वाले हैं ..हमारा भी नशा अब टूटने लगा हैं ...फिर से महफ़िल सजेगी ..परवाने आएगे और अपने -अपने कमेन्ट देकर हमारा स्वागत करेगे ,,,,,वाह .."बहारे फिर भी आएगी ..फेसबुक अब हम तुझे छोड़ चले ......."

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…
on 

सच है ... बढ़िया रहा विवेचन

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…
on 

कान को इतना महत्व, अभी जाकर कान साफ कर लेते हैं...

Rahul Singh ने कहा…
on 

ये हुई न बात. यू टर्न पर स्‍वागत है. पिछली पोस्‍ट के लिए आडियो सुनने के परिश्रम का फल है शायद यह.

सुनीता शानू ने कहा…
on 

वाह ललित भाई कर्ण पुराण तो सचमुच बहुत ही जानदार है। पढ़कर कान खड़े हो गये...:)

Raravi ने कहा…
on 

कर्ण पुराण के रूप में महाभारत के कर्ण की चर्चा सुनने की अपेक्षा थी मगर यहाँ तो और भी मजेदार कहानी चल रही है. कान से जुड़े कहावतों को दुहरा देने के लिए धन्यवाद. हाँ सिरपुर की कहनी के अगले किस का क्या हुआ?

संध्या शर्मा ने कहा…
on 

कर्ण पुराण के साथ बढ़िया और जोरदार वापसी...यू टर्न बहुत अच्छा रहा, सबके लिए जरुरी है ये...

अन्तर सोहिल ने कहा…
on 

सबको कानोंकान खबर हो जाये कि फेसबुक में कुछ नहीं धरा, लौट आओ :)

प्रणाम स्वीकार करें
और हार्दिक धन्यवाद इस पोस्ट के लिये

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…
on 

भौत चौखो सा :)

अभिषेक प्रसाद ने कहा…
on 

ufff... lalit jee apne to kaan hi paka diya.... ;)

behtareen rachna hai.... vyangya kahun ise ya haqiqat....

सुनीता शानू ने कहा…
on 

अरे मेरी टिप्पणी उड़ा दी आपने...दुश्मनी? कब से? गुर्र र र :(

Arunesh c dave ने कहा…
on 

कई एइसे धुरंधरी कान होते है जो लेखो मे भी साउंड खोज लेते है :) :) बढ़िया कर्ण पुराण

महेन्द्र मिश्र ने कहा…
on 

अच्छी कर्ण कथा....बहुत बढिया

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…
on 

ये सब बातें तो हैं ही ,पर एक महत्वपूर्ण बात और -अगर कान नहीं होते तो हम चश्मा कैसे लगाते - सारा काम-धंधा ठप हो जाता !

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…
on 

कुछ लोगों के तो कान पर जूं भी नहीं रेंगती.

सुबीर रावत ने कहा…
on 
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
सुबीर रावत ने कहा…
on 

यह कर्ण पुराण नहीं कान की महिमा है. वैसे 'कान सम्मलेन' भी होता है. कान सम्मलेन में कान ये वाला नहीं दूसरा होता है जो न बजता है और न बजाया जा सकता है. ..... मै तो रेलगाड़ी में ही आपका इन्तेजार कर रहा था वह भला हो कि आपकी चिट्ठी मिली तब मै आपकी ड्योढ़ी तक पहुंचा हूँ.... जय हो....... कभी अपने दरबार में भी तशरीफ़ ले आयें.

डॉ.मीनाक्षी स्वामी ने कहा…
on 

बहुत जोरदार कर्ण पुराण।

एक टिप्पणी भेजें

शिकवा रहे,कोई गिला रहे हमसे,आरजु एक सिलसिला रहे हमसे।
फ़ासलें हों,दूरियां हो,खता हो कोई, दुआ है बस नजदीकियां रहें हमसे॥

 

लोकप्रिय पोस्ट

पोस्ट गणना

स्वागत है आपका

FeedBurner FeedCount

यहाँ भी हैं

ईंडी ब्लागर

ललित डॉट कॉम

लेबल

aarang abhanpur ayodhya bastar bhilai bsp chhattisgarh delhi indian railway jyotish kathmandu lalit sharma lalqila lothal mahanadi malhar manpat minakshi swami nepal raipur rajim sirpur tourism uday ufo yatra अकलतरा अक्षर धाम अघोरपंथ अचानकमार अधरशिला अनुज शर्मा अनूपपुर अन्ना हजारे अबुझमाड़ अभनपुर अभ्यारण अमरकंटक अम्बिकापुर अयोध्या अलवर असोढिया सांप अहमदाबाद आकाशवाणी आमचो बस्तर आम्रपाली आयुर्वेद आरंग आर्यसमाज आश्रम आसाढ इजिप्त इतिहास इलाहाबाद उतेलिया पैलेस उत्खनन उत्तर प्रदेश उत्तरांचल उदयपुर उपनिषद उपन्यास उल्लू उसने कहा था एड्स एलियन ऑनर किलिंग ओबामा औरत औषधालय कचहरी कटघरी कटघोरा कनिष्क कबीर करवा चौथ करैत कर्णेश्वर कलचुरी कवि सम्मेलन कविता कहानी कहानीकार कांगड़ा फोर्ट कांगेर वैली काठमांडू काठमाण्डू काम कला कामसूत्र कालाहांडी कालिदास काव्य गोष्ठी काव्य संग्रह काश्मीर काष्ठशिल्प किन्नर किसान कीबोर्ड कुंभ कुटुमसर कुरुद केंवाच कोकशास्त्र कोट गढ कोटमी सोनार कोटा कोण्डागाँव कोबरा कोमाखान कोरवा खरसिया खल्लारी खाटु श्याम जी खारुन नदी खेती-किसानी खैरथल गंगा गंगानगर गंधर्वेश्‍वर मंदिर गजरौला गढमुक्तेश्वर गढ़ मंडला गणेश गरियाबंद गर्भपात गर्म गोश्त गाँव गांधी नगर गाजीपुर गायत्री परिवार गीत गुगा नवमी गुगापीर गुजरात गुप्तकाल गुलेरी जी गुफ़ाएं गैस चूल्हा गोंडवाना गोदना गोवाहाटी गोविंद देव गौतम बुद्ध ग्वालियर गड़ा खजाना घाट घुमक्कड़ घुड़सवारी घोंघा घोटाला चंदेल राजा चंद्रकांता चंबा चकलाघर चटौद चमड़े का जहाज चम्पारण चिट्ठा जगत चिट्ठाजगत चित्तौडगढ चित्रकला चित्रकार चित्रकूट चीन चुक्कड़ चुनारगढ चुड़ैल चूल्हा चूहेदानी चेन्नई चैतुरगढ छत्तीसगढ छत्तीसगढ पर्यटन छूरा जगदलपुर जन्मदिन जबलपुर जयचंद जयपुर जांजगीर जादू-टोना जापानी तेल जैन विहार जोधपुर ज्योतिष झारखंड टोनही डायबीटिज डीपाडीह डॉक्टर तंत्र मंत्र तट तनाव तपोभूमि तरीघाट तिब्बत तिलियार तीरथ गढ तीवरदेव त्रिपुर सुंदरी दंतेवाड़ा दंतेश्वरी मंदिर ददुवा राजा दरभंगा दलाई लामा दारु दिनेश जी दिल्ली दीवाली दुर्ग धमतरी धर्मशाला नंगल नकटा मंदिर नगरी सिहावा नगाड़ा नदी नरबलि नर्मदा नागपुर नागार्जुन निम्बाहेड़ा नूरपुर नेपाल नौगढ़ नौतनवा पंचकोसी पंजाब पठानकोट पत्रकारिता परम्परागत कारी्गर पर्यटन पर्यारवण पशुपतिनाथ पांडीचेरी पाकिस्तान पाटन पाण्डव पाण्डुका पानीपत पापा पाली पुरातत्व पुराना किला पुराना महल पृथ्वीराज चौहान पेंटिंग पेंड्रारोड़ प्राचीन बंदरगाह प्राचीन विज्ञान प्रेत साधना फणीकेश्वर फ़िंगेश्वर बनारस बरसात बवासीर बसंत बांधवगढ बागबाहरा बाजी राव बाबा रामदेव बाबाधाम बाला किला बालोद बिलासपुर बिल्हा बिहार बुद्ध बूढ़ा नीलकंठ बैद्यनाथ धाम ब्लागर मिलन ब्लॉगप्रहरी भगंदर भरतकुंड भाटापारा भानगढ़ भाभी भारत भारतीय रेल भिलाई भीम भूत प्रेत भैंस भैया भोंसला राजा भौजी मणि पर्वत मथुरा मदकुद्वीप मदन महल मद्रास मधुबन मधुबन धाम मधुमेह मध्य प्रदेश मनसर मराठा मल्हार महआ महादेव महानदी महाभारत महासमुंद महुआ महेशपुर माँ माओवादी मिथुन मूर्तियाँ मुंबई मुगल साम्राज्य मुद्रा राक्षस मुलमुला मेवाती मैकाले मैनपाट मैनपुर मोहन जोदरो मौर्यकाल यात्रा युद्ध योनी रचना शिविर रजनीगंधा रतनपुर रत्नावती रमई पाट रहस्य राज राजभाषा राजस्थान राजिम राजिम कुंभ राजीव राजीव लोचन रानी दुर्गावती राबर्टसगंज रामगढ रामटेक रायगढ रायपुर रायफ़ल शुटिंग रावण राहुल सिंह रींगस रेड़ियो रेल रोहतक लक्ष्मण झूला लखनपुर ललित डॉट कॉम ललित डोट कॉम ललित शर्मा लाल किला लाफ़ागढ लिंग लिट्टी-चोखा लोथल वन देवी वनौषधि वर्धा विनोद शुक्ल विराट नगर विश्वकर्मा विश्वकर्मा जयंती विष्णु मंदिर वृंदावन वेलसर वैशाली की नगर वधू व्यंकटनगर व्यंग्य शरभपुर शव साधना शहडोल शांति कूंज शिल्पकार शिव लिंग शिवनाथ शुटिंग शोणभद्र संध्या शर्मा संभोग सतमहला सरगुजा सरयू सरिस्का सहवास सातवाहन्। साहित्य सिंघनगढ सिंघा धुरवा सिंधु शेवड़ा सिरपुर सिहावा नगरी सीकर सीता बेंगरा सुअरमारगढ़ सुअरमाल सेक्स सेना सोनौली सोहागपुर हनुमान गढी हमीरपुर की सुबह हरिद्वार हरियाणा हरेली हसदा हाथी हावड़ा। हिंदी भवन हिडिम्बा टेकरी हिमाचल प्रदेश हिमाचली शादी होल्डर ॠग्वेद ॠषिकेश રુદ઼ા બાઈ ની બાવ લોથલ હું છું અમદાબાદ​