शनिवार, 4 जून 2011

मिथलेश दूबे की शादी

हमारी वैदिक संस्कृति ने जीवन का निर्वाह करने लिए पुरुषार्थ चतुष्टय का मार्ग दिया है। पुरुषार्थ चतुष्टय माने धर्म, अर्थ, काम, और मोक्ष एवं ब्रह्मचर्य, गृहस्थ,वानप्रस्थ और सन्यास। इन सब के पालन के लिए मनीषियों ने काल का निर्धारण  किया है।

अधिकतर मनुष्यों को गृहस्थ आश्रम से होकर गुजरना पड़ता है। सबसे उत्तम गृहस्थ आश्रम को माना गया। गृहस्थ ही एक ऐसा आश्रम है, जो अपने पुरुषार्थ से ब्रह्मचर्य, वानप्रस्थ और सन्यास आश्रम को चलाता है।

उसकी उसके परिश्रम से अर्जित धन में चींटी से लेकर हाथी एवं बच्चे से लेकर वृद्ध एवं समाज तक की हिस्सेदारी होती है। गृहस्थ आश्रम में प्रवेश करने को लेकर खुशियाँ मनाई जाती है, उत्सवपूवर्क इसे सम्पन्न कराया जाता है। 


ऐसा ही एक उत्सव मिर्जापुर जिले के विदापुर में हुआ। अवसर था चिं मिथलेश दूबे के विवाह का। भदोही से इनकी बारात विदापुर गयी और 22 मई को विदापुर की सुमन के साथ पाणिग्रहण हुआ और  उसे विदा करा लाए।

अब मिथलेश जूनियर ब्लॉगर न रह कर सीनियर हो गए है। बच्चा अब बड़ा हो गया है,बड़े होने पर इनकी जिम्मेदारियाँ भी बढ गयी हैं।

जिसका बोझ  इन्हे अपने कंधे पर एटलस की तरह उठाना है। इस शु्भ अवसर पर मिथलेश दूबे एवं बहुरिया दोनो को बहुत-बहुत आशीर्वाद एवं शुभकामनाएं।

34 टिप्‍पणियां:

  1. ललित भाई,
    शादी में मिठा-सिठा नी बनो था के, लगे हाथ मिठे के भी एक आध फ़ोटो लगा देते।
    वैसे मैं खुद एक आर्य समाजी परिवार से हूं, वैदिक शादी सबसे बेहतरीन होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ललित जी विदाई कहाँ हुयी ?
    मैं भी तो एक बाराती ही था ....
    गौना की परिपाटी है वहां सो बच्चा अभी भी बच्चा रह गया ....
    बस अब कुंवारा बाप न बने यही शुभकामनाएं दीजिये ....
    इस शादी की लाईव रिपोर्टिंग करनी थी मुझे मगर हाय री किस्मत साथ नहीं दिया
    नव वर वधू के अशेष आशीष !

    उत्तर देंहटाएं
  3. मिथलेश एवं बहु को बहुत-बहुत आशीर्वाद एवं शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. @Arvind Mishra

    ओह, मुझे तो आकाशवाणी से यही सूचना मिली थी कि विदापुर से विदा हो गयी बारात। दुल्हन साथ नहीं थी इसका पता नहीं था।
    चलिए गौना होने पर स्थाई तौर पर विदा हो जाएगी, वैसे अब मान लेना चाहिए कि बच्चा बड़ा हो गया, बच्चा न रहा। हा हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  5. mithlesh ji ko hmari trf se bhi shubhkamnayen ..akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  6. मिथलेश को बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आनंद दायक शुभ खबर है ! मिथिलेश और बहू को शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  8. चि. मिथिलेश और आयु. सुमन को दांपत्य जीवन में प्रवेश के लिए बहुत-बहुत बधाई...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  9. नव दंपत्ती को शादी की ढेर सारी शुभकामनाएं । ललित भैया दूसरो की शादी की फ़ोटो लगाना भी कही ब्लाग चोरी न घोषित कर दी जाय शास्त्री जी से पूछ लेना

    उत्तर देंहटाएं
  10. मिथिलेश का यह आश्रम भी सानन्द चले...

    उत्तर देंहटाएं
  11. मिथलेश जी एवम बहू को हार्दिक शुभ कामानाएं

    उत्तर देंहटाएं
  12. नव दम्पति को ढेर सारी बधाइयाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  13. गौना हो ना हो , शादी तो हो गयी ना .. मिथि‍लेश एवं बहु को बहुत आशीर्वाद एवं शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बालक को बड़े होने की, बहुरिया घर लाने की, बाप बनने की अनुज्ञा मिलने की बहुत बहुत शुभकामनाएँ। इस अनुज्ञा का इस्तेमाल कर वे जल्दी से परिणाम लाएँ हमें फिर से प्रसन्नता का शीघ्र अवसर दें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बहुत बधाई हो मिथिलेश जी को।

    उत्तर देंहटाएं
  16. ढेरों शुभकामनाएं. जीवनपर्यंत प्रसन्न रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  17. मिथिलेश एवं सुमन को...ढेरो बधाई और असीम शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  18. Mithlesh को शादी की हार्दिक बधाई । गौना भी जल्दी हो --शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. मिथलेश एवं बहु को बहुत-बहुत आशीर्वाद एवं शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. नवदंपत्ति को बधाई एवं शुभकामनाये.

    उत्तर देंहटाएं
  21. नवविवाहित दंपत्ति को मेरी ओर से भी बधाई. उपरोक्त सभी टिप्पणियों में से सबसे बढ़िया टिपण्णी श्रीमान जाकिर अली रजनीश जी की है जिसमे उन्होंने बधाई के साथ साथ एक अवसरानुकूल विषय वाली पोस्ट का लिंक भी उपलब्ध करवाया है.

    उत्तर देंहटाएं
  22. मिथलेश को बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  23. मिथलेश भाई को बहुत-बहुत शुभकामनाएं और आशीष।

    उत्तर देंहटाएं
  24. मिथिलेश जी को बहुत -बहुत बधाई और शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  25. मिथिलेश भाई को बहुत बहुत बधाई और नवदम्पति को सुखद एवं मंगलमय वैवाहिक जीवन के लिये शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  26. चिर सुखी वैवाहिक जीवन की शुभकामनाओं सहित बहुत बहुत बधाई। देर से देखन वास्ते माफी मांगत हैं भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  27. दोनो को बहुत-बहुत आशीर्वाद एवं शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  28. देर से देख पाया यह सूचना

    बधाई व शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं