मंगलवार, 26 अप्रैल 2011

बगैर मीटर और हेड लाईट की गजल-चलते चलते से लौट कर -- ललित शर्मा

 केवल राम के ब्लॉग चलते चलते से लौट कर बगैर मीटर और हेड लाईट की गजल। कृपया प्रकाश डालें।

जाने वो क्या मजा है पीने पीलाने में
जो एक बार हो आया हो मयखाने में।

वाईज औ पंडित गले मिलते देखे हमने  
दीवानों की महफ़िल जमती मयखाने में

ईश्क हकीकी का मजा मिजाजी न जाने
मयकशी ने ये पैगाम दिया मयखाने में

रफ़ीक भी रकीब जैसे मिलते जहा्न में
रकीब भी रफ़ीक हो गए हैं मयखाने में

"ललित" दीवानगी ले आती रोज यहाँ
वरना क्युं आते सर ए आम मयखाने में

23 टिप्‍पणियां:

  1. "ललित" दीवानगी ले आती रोज यहाँ
    वरना क्युं आते सर ए आम मयखाने में
    ...नशा नशा नशा नशा बस नशा.....बहुत सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका भी जवाब नहीं ललित जी आपने भी चलते चलते कविता रच डाली

    उत्तर देंहटाएं
  3. ईश्क हकीकी का मजा मिजाजी न जाने
    मयकशी ने ये पैगाम दिया मयखाने में


    सही कहा है भाई ......क्या मजा आता है पीने और पिलाने में .....मेरे ब्लॉग का नशा आपको भी चढ़ गया ना ..चलो दोनों बैठ कर पीते हैं और पिलाते हैं ...फिर दिल की बात सबको बताते हैं ...हा..हा..हा.!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut badhiya gazle hai aapke khazaane mai
    hamne padhi ab le chalo kisee maykhane mai

    mazaa nahee laddu pede kachauree khane mai
    vo mazaa aata hai saaki tere maykhaane mai

    उत्तर देंहटाएं
  5. Dr Satyajit Sahu -- By mail

    बहुत अच्छा ......................अब ललित जी है रूमी और बच्चन के बाद .............................कुछ और अध्यातिम्क रहस्यों को इस प्रकार की शराब बनाकर दीजेये

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह हिच्‍च, हिच्‍च, वाह बाकी हम टून्‍न है, कल बतियाते है हिच्‍च हिच्‍च, लेकिन वाह ....वाह

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब न रहे वो पीने वाले अब न रहा वो मयखाना । पीकर रोड मे गिरने वालो मे बदनाम कर दिया । वरना हम पियक्कड़ भी नामचीन थे

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैने उसे मेल की थी इसके बारे मे कि ये गज़ल नही है। वो निरुत्साहित न हो इस लिये ब्लाग पर कुछ नही कहा था। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. मीटर तो इसे हम भी नही लगा सकते उसके लिये किसी उस्ताद से पूछें मगर भाव अच्छे हैं।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या बात है उर्दू भी बुरी नहीं आपकी..मीटर वीतर का हमें पाता नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. कमाल की है भैया बिना मीटर और हेड लाइट की ग़ज़ल!

    उत्तर देंहटाएं
  12. " पिला दे ओंक से साकी जो हमसे नफरत है !
    प्याला गर न देता न दे ,शराब तो दे !"

    पिने वाले को पिने का बहाना चाहिए ! चाहे शराब हो, चाहे लस्सी हो, सब चलता है

    उत्तर देंहटाएं
  13. kyaa bat hai jnaab nshaa shaayri kaa hotaa to naachte lebtop kmpyutar bhtrin likh daali hai gzal . akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  14. "ललित" दीवानगी ले आती रोज यहाँ
    वरना क्युं आते सर ए आम मयखाने में


    -और क्या...दीवानगी ही तो है....बेहतरीन.

    उत्तर देंहटाएं
  15. ग़ज़ल तो प्रकाशित होकर चमक रही है, इस पर और प्रकाश डालने की आवश्यकता नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. गजल भी तो कहला देती है यह.

    उत्तर देंहटाएं
  17. रफ़ीक भी रकीब जैसे मिलते जहा्न में
    रकीब भी रफ़ीक हो गए हैं मयखाने में

    खूब कहा आपने....

    उत्तर देंहटाएं
  18. हम सजायेगे अपना मय खाना,
    वहां सारी रात नाचेगे गायेगे,

    उत्तर देंहटाएं
  19. रकीब भी रफीक हो जाते मयखाने में ...
    यूँ ही नहीं लिख जाती है मधुशाला ...

    उत्तर देंहटाएं