मंगलवार, 10 फ़रवरी 2015

थिम्पू की सुबह एवं परिकल्पना सम्मान समारोह - भूटान यात्रा -5

प्रारम्भ से पढ़ें 
पौ फ़टते ही आँखे खुल गई, बालकनी से देखा तो आस-पास अंधेरा सा ही था, पर दूर पहाड़ की बर्फ़ जमी चोटी रश्मि स्नान कर रही थी। सूर्य की किरणें धवल बर्फ़ पर पड़ने के कारण स्वर्णाभा का दृश्य उत्पन्न कर रही थी। द्वार उन्मुक्त कर बाहर निकला तो ठिठुरा देने वाली ठंड थी। कैमरा विश्राम मोड में होने के कारण इस दृश्य को संजो नहीं सका। सिर्फ़ आंखो के द्वारा हृदय में ही उतार पाया। मोबाईल कैमरे से दो-चार चित्र लिए और भीतर आ गया। तभी द्वार पर दस्तक हुई और चाय वाला भी पहुंच गए। गर्मागर्म चाय की भाप से सिकती हुई अंतड़ियों को राहत मिली। कमरे से बाहर निकलने का जी नहीं कर रहा था।
खिड़की से पर्वत दर्शन
हम मैदानी इलाकों के रहने वालों के नित्य स्नान जरुरी है, स्नान के साथ ही दिनचर्या प्रारंभ होती है। स्नानाबाद ही लगता है कि आज फ़िर नया दिन निकला है, वरना दिन पुराना ही रहता है। रात की खुमारी भी नहीं उतरती। पता नहीं यहाँ के लोग कितने दिनों में स्नान करते होगें या फ़िर काग स्नान से ही काम चला लेते होगें। बाथरुम में न बाल्टी थी न मग्गा। पर छ: फ़ुटा बाथटब जरुर था। नल से गर्म पानी आना शुरु हो गया। आज बाथटब स्नान ही किया जाए। बाथटब लबालब भरने के बाद उसमें उतर गए और गर्म पानी से देह से भरपूर सिंकाई की। आनंद आ गया। अभी तक फ़िल्मों में नायिकाओं को बाथटब स्नान करते देखा था। आज हम खुद ही बाथटब में थे। पर कोई फ़ोटो लेने वाला नहीं था। एक बारगी तो फ़ोटो की कमी खली। :) फ़ोटो नहीं हुई वरना 6 पैक और 8 पैक सब दिख जाते।
सुबह की धूप का आनंद - ललित शर्मा, गिरीश पंकज, कृष्ण कुमार यादव एवं समर बहादुर वर्मा
तैयार होकर लॉबी में पहुंचे तो सूनीता हांफ़ते हुए आ रही थी, जैसे 10-20 किलोमीटर की मैराथन दौड़ कर आ रही हो। बोलने के लिए मुंह खोलती तो शब्द भी जम रहे थे और उष्मा पाकर अटक-अटक पर पिघल कर बाहर निकल रहे थे। जमें हुए शब्द जब हम तक पहुंचे तो पता चला कि मोहतरमा मार्निंग वॉक करके आ रही हैं। फ़िर पता चला कि इनकी हार्दिक इच्छा यहाँ बाईक चलाने की है। बाईक तो मुझे कहीं दिखाई नहीं दी पर इन्होने कहा कि "मैं इंतजाम करती हूँ।" पता नहीं किसको बाईक के लिए कह कर आई और वह बाईक 3 दिनों में कहीं नजर नहीं आई। न ही बाईक की सवारी हुई। इनकी इच्छा अधूरी रह गई। 
यही चिमनी है लोखन वाली
टैरेस पर धूप आ गई, साथ ही यहाँ एक लोखन की चिमनी वाली सिगड़ी भी सुलग रही थी। जब मैं टैरेस पर पहुंचा तो कोई सज्जन नहीं आए थे। सिगड़ी में थोड़ी देर हाथ सेंक कर दस्ताने धारण कर लिए। हाथों का बचाव तो हो गया पर नाक और कान को ठंड लग रही थी। कान बंद करो तो सुनाई नहीं देगा और नाक बंद करो तो हरे राम, हे! राम हो जाएगा। तभी सर्जना शर्मा जी का पदार्पण हुआ। वे स्नानोपरांत ध्यान मोड में थी। ऐसे लग रहा था कि अनुलोम विलोम करते हुए ही चल रही हैं। उन्होने एक सोफ़े पर आसन जमा लिया और सूर्यमुखी होकर अनुलोम विलोम प्रारंभ कर दिया। स्वास-प्रस्वास की प्रक्रिया शरीर की ऊष्मा बनाए रखती है। जैविक हीटर शरीर की रक्षा के अनुसार ऊष्मा का उत्सर्जन प्रारंभ कर देता है।
योगाचार्या सर्जना शर्मा जी
यहाँ सुबह की धूप कुछ अजीब ही तरह की चमकीली होती है और आंखों को चुभती है। गर्मी के मौसम में जिस तरह चिलचिलाती धूप पड़ती है, कुछ उस तरह की ही धूप थी। सूर्य की ऊष्मा भी ठंड को कम नहीं कर पा रही थी। यह तो प्रकृति की महान कृपा हम थी कि हवा नहीं चल रही थी। अगर हवा चलती तो कहर ढा देती। दस्ताने हाथ से बाहर निकालते ही अंगुलियाँ गायब हो जाती थी। नाश्ता भी लग चुका था, हमसे तो यहाँ का खाना ही नहीं खाया जा रहा था। पानी भी बहुत कम पीया जा रहा था। ठंडा पानी पीयो तो दांत कनकनाने लगते और गर्म पानी गले से नीचे नहीं उतरता। अजीब संकट में फ़ंस गए थे और इसका कोई हल भी नहीं था। 
ब्लॉग़ भांति भांति के
सुबह से ही मनोज पाण्डे जी ने आज के कार्यक्रम की लिस्ट एवं आवश्यक वस्तुओं के साथ एक फ़ोल्डर रुम में ही सबको थमा दिया। आज रिसोर्ट के मिटिंग हॉल में मुख्य कार्यक्रम था। थोड़ी देर में सभी दूल्हे की माफ़िक सजधजकर रुम से बाहर निकलने लगे। लगा कि फ़ैंसी शो जैसा ही कार्यक्रम होने वाला है। डॉ विनय दास जी ने पूर्ण भारतीय परिधान धारण कर लिया था। कटिवस्त्रम, अंगवस्त्रम, जैकेटम के साथ उत्तरीयम धारण कर भूटान की धरती पर पारम्परिक भारतीय परिधान गरिमामय दर्शन भूटानवासियों को करवाया। बाकी तो सभी कोट पैंट में ही थे। 
कार्यक्रम में सिरपुर की कहानी
आज के कार्यक्रम के अतिथि भूटान चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के महासचिव फूब शृंग, उप महासचिव चन्द्र क्षेत्री, सार्क समिति के महिला विंग तथा इन्टरनेशनल स्कूल ऑफ भूटान की अध्यक्षा थिनले ल्हामा का उपस्थित होना भी तय हो गया। कार्यक्रम 11 बजे प्रारंभ हुआ। अतिथियों के साथ डॉ नित्यानंद पाण्डे, गिरीश पंकज, कृष्ण कुमार यादव एवं रविन्द्र प्रभात मंचासीन हुए और कार्यक्रम संचालन की डोर सुनीता यादव ने थाम ली। एकदम झकास भारतीय अंग्रेजी में कार्यक्रम का संचालन प्रारंभ हुआ। वैसे भूटान के बड़े छोटे अधिकारी हिन्दी समझते और बोलते हैं क्योंकि इनका काम भी हिन्दी के बिना नहीं चलता। पर इन्हें अंग्रेजी की सुविधा हमारे मंच से विशेष तौर पर प्रदान की गई।
सिरपुर सैलानी की नजर से भेंट
मंच के समक्ष ही समस्त सम्मानाधिकारी बैठे हुए थे और सभी के मोबाईल में कैमरे भी थे। नाम की पुकार होते ही सभी अपने मोबाईल फ़ोन लेकर सामने ही डट गए, अब पीछे बैठने वालों को कुछ दिखाई दे या न दे, उनकी बला से। वैसे भी जब से मोबाईल में कैमरे का चलन प्रारंभ हुआ है, लगभग सभी समारोहों में कमोबेश यही स्थिति रहती है। हायर किया गया फ़ोटोग्राफ़र पीछे रह जाता है और मोबाईल फ़ोटोग्राफ़र मुंह में भी कैमरा डाल कर फ़ोटो ले लेते हैं। फ़ेसबुक, वाट्सअप फ़ोबिया जो कराए वो कम है। 
मंचासीन अतिथिगण
ब्लॉगर सम्मेलन में परिकल्पना सम्मानों का वितरण किया गया। कृष्ण कुमार यादव को सर्वोच्च सार्क शिखर सम्मान, डॉ. राम बहादुर मिश्र को साहित्य भूषण सम्मान, रणधीर सिंह सुमन व डॉ. विनय दास को क्रमशः सोशल मीडिया सम्मान और कथा सम्मान, कुसुम वर्मा को लोक-संस्कृति सम्मान, डॉ. अशोक गुलशन को हिन्दी गौरव सम्मान, सूर्य प्रसाद शर्मा को साहित्य सम्मान तथा ओम प्रकाश जयंत व विष्णु कुमार शर्मा को क्रमशः साहित्यश्री सम्मान व सृजनश्री सम्मान, विश्वंभरनाथ अवस्थी को नागरिक सम्मान प्रदान किए गए।
श्री फ़ूब शृंग एवं ब्लॉगर
इस ब्लॉगर सम्मेलन में परिकल्पना सार्क शिखर सम्मान से श्री कृष्ण कुमार यादव, श्री ललित शर्मा एवं श्रीमती सम्पत मोररका को सम्मानित किया गया। स्मृति चिन्ह एवं उत्तरीय के साथ 25 हजार की राशि भी देने की घोषणा की गई। इसके अलावा डॉ. राम बहादुर मिश्र को साहित्य भूषण सम्मान, रणधीर सिंह सुमन व डॉ. विनय दास को क्रमशः सोशल मीडिया सम्मान और कथा सम्मान, कुसुम वर्मा को लोक-संस्कृति सम्मान, डॉ. अशोक गुलशन को हिन्दी गौरव सम्मान, सूर्य प्रसाद शर्मा को साहित्य सम्मान तथा ओम प्रकाश जयंत व विष्णु कुमार शर्मा को क्रमशः साहित्यश्री सम्मान व सृजनश्री सम्मान, विश्वंभरनाथ अवस्थी,  सुनीता प्रेम यादव, प्रकाश हिन्दुस्तानी,  गिरीश पंकज, अल्पना देशपांडे, अदिति देशपांडे, सर्जना शर्मा, निशा सिंह, आलोक भारद्वाज आदि को भी विभिन्न क्षेत्रों में उनके योगदान के लिए परिकल्पना सम्मान से नवाज़ा गया।
परिकल्पना का परचम थिम्पू में लहराया
सम्मेलन में पाँच पुस्तकों - संपत देवी मुरारका की यात्रा वृत्त, कुसुम वर्मा की ह्रदय कँवल, सूर्य प्रसाद शर्मा निशिहर की संघर्षों का खेल, विष्णु कुमार शर्मा की दोहावली, अशोक गुलशन की क्या कहूँ किससे कहूँ और परिकल्पना समय पत्रिका के जनवरी अंक, परिकल्पना कोष वेबसाईट का लोकार्पण भी किया गया । इसके अलावा अल्पना देशपांडे की कलाकृतियों की प्रदर्शनी व कुसुम वर्मा के लोकगीत गायन का उपस्थित सभी जनों ने आनंद लिया एवं प्रशंसा की । मुख्यातिथि ने अपने भाषण में भूटान एवं भारत की सांस्कृति विरासत एवं चल रहे साझे कार्यक्रमों की जानकारी दी। साथ उपस्थित भारतीयों को भूटान राष्ट्र के विषय में मुख्य जानकारी भी अवगत कराया। भोजनावकाश तक समारोह समपन्न हो गया। कुल मिलाकर मामला आनंददायक ही रहा। जारी है,  आगे पढ़ें। .... 

8 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा लिखा ललित जी! एक चॉकलेट तक नहीं खिलाया...बधाई हो

    उत्तर देंहटाएं
  2. 25 हजार !!! यानि सफ़र का खर्च निकल गया और फोकट में घुमे सो अलग...कुल मिलाकर आनन्द हु आनन्द ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Are you aiming to become SBI PO and struggling to crack the SBI PO exam? Find the great deals for the SBI PO exam books Arihant at 99grades – India’s leading online book selling company. Avail huge discount, cash on delivery and free home shipping for your order.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज के समय में बहुत सारी बीमारियां फैल रही हैं। हम कितना भी साफ-सफाई क्यों न अपना लें फिर भी किसी न किसी प्रकार से बीमार हो ही जाते हैं। ऐसी बीमारियों को ठीक करने के लिए हमें उचित स्वास्थ्य ज्ञान होना जरूरी है। इसके लिए मैं आज आपको ऐसी Website के बारे में बताने जा रहा हूं जहां पर आप सभी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।
    Read More Click here...
    Health World

    उत्तर देंहटाएं