शनिवार, 19 फ़रवरी 2011

(चित्रावलियाँ) राजिम कुंभ से लौटकर

राजिम कुंभ के उद्घाटन समारोह में पहुंचते ही रात घिर आई, लेकिन पुनम का चाँद अपने पूरे शवाब पर था। हमने कोशिश की इस समारोह को अपने मोबाईल कैमरे में कैद करने की। पिक्चर क्वालिटी रात के हिसाब से संतोषजनक ही है। कभी दिन में जाना होगा तो और भी चित्र उपलब्ध कराएगें सैर कीजिए कुंभ मेले की।

राजीव लोचन मंदिर का प्रकाशित प्रवेश द्वार
साडा पुराणा मित्तर-- बलदेव सिंग हुंदर, मुछों को बल देते हुए
भगवान राजीव लोचन
गंगा आरती--महानदी तट पर
कुंभ मेले का विहंगम दृश्य

सजी हुई दुकान--ग्राहक के इंतजार में

राजिम की बेटी ने रेत पर फ़ूल बनाकर कुंभ का स्वागत किया
राजीव लोचन मंदिर के शिखर पर पुनम का चाँद
सजा धजा मंच
दो दीवाने --- ललित शर्मा-- संतोष शुक्ला
राहुल भैया द्वारा खाई-खजानी का सिंहावलोकन
कांची काम कोटि पीठाधीश्वर शंकराचार्य जयेन्द्र सरस्वती



संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक,
कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहु, राज्य भंडार गृह निगम अध्यक्ष अशोक बजाज
एवं समस्त साधु संत समाज
गम्मतिहा द्वारपाल -- पारम्परिक वेशभूषा में

23 टिप्‍पणियां:

  1. एकदम जिन्‍दा तस्‍वीरें और उतने ही सटीक कैप्‍शन.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर फोटोग्राफी! वीडियो भी लिये होंगे। वह भी देखेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम भी कर लिए सैर मेले की
    कल सुबह 4 बजे नदी में था नहाने की हिम्‍मत नहीं हुई सिर में पानी छिडक के आ गए्.........;;

    उत्तर देंहटाएं
  4. दो दीवाने --- ललित शर्मा-- संतोष शुक्ला
    बाकि आपकी दीवानगी को देख रहे हैं ...अच्छा है भाई
    मुझे गीत याद आ रहा है ..
    दिल तेरी दीवानगी में खो गया है ...
    हम तेरे शहर में आये हैं मुसाफिर की तरह, बस इक बार मुलाकात का मौका दे दे .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. रात में भी बढिया फोटुएं आई हैं, धन्यवाद
    राजिम की बेटी, बलदेव सिंह और संतोष शुक्ला जी के बारे में और लिखें।

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ..मेले का आनंद आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर चित्र .. राजिम कुंभ के दर्शन करवाने का आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन बाग-बाग हो गया। दिल्ली में तो ऐसी रौनक रोज़ होती है लेकिन राजिम की उस रौनक के पीछे छिपी बातों को दिल से ही महसूस किया जा सकता है, जो हमने किया। काश हम भी वहां होते।

    उत्तर देंहटाएं
  9. राजिम के कुंभ मेले के जीवंत फोटो के जरिये सैर कराने के लिये आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुना है तीर्थ कर के आने वाले की फोटो भी देख लो तो कुछ ना कुछ पुण्य मिल जाता है.........तो

    उत्तर देंहटाएं
  11. अब तो कहना पड़ेगा कि मूंछे हों तो शर्मा जी जैसी... सुन्दर चित्र..

    उत्तर देंहटाएं
  12. सारे चित्र बहुत ही ख़ूबसूरत हैं...वह शिखर के ऊपर चाँद वाला चित्र तो अनुपम है...

    उत्तर देंहटाएं
  13. सारे चित्र बहुत ही ख़ूबसूरत हैं

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर चित्र जी, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक से बढ़िया एक चित्र ..पर सबसे बढ़िया ..भेलपूरी वाला :( ,
    सुन्दर रेत पर बने फूल और दो दीवाने रहे.

    उत्तर देंहटाएं
  16. ख़ूबसूरत तस्वीरें हैं ,धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. चित्रों में जान डालने के लिए क्या इससे भी ज्यादा कुछ होता होगा
    अद्भुत फोटोग्राफी मन हर्षित हो गया

    उत्तर देंहटाएं