सोमवार, 6 दिसंबर 2010

श्मशान और कब्रिस्तान तक,लगे हैं जिन्दगी के मेले

आरम्भ से पढ़ें 
जहां से हम चलते हैं वहीं फ़िर पहुंच जाते हैं घूम घाम कर, धरती गोल है। ईश्वर की सारी सृष्टि ही गोल है, कहीं भी चौकोर नही हैं। चौरास्ते नहीं है, भटकने का जो खतरा होता है।

भूल भूलैया से निकल कर सीधा वहीं आना पड़ता है जहां कोई आना नहीं चाहेगा। लेकिन मुझे सुकून वहीं मिलता है जहां आने से लोग डरते हैं। घर से बैठ कर ही जलती चिताओं को देखता हूँ। उसकी लपटें धीरे धीरे बढते हुए एका एक गगन चूमने लगती हैं। फ़िर मद्धम होकर शांत हो जाती हैं। फ़िर अंगारे धधकते रहते हैं कितना गर्व और गुमान भरा है इस देह में। जिसकी अकड़ भस्म होने पर ही निकलती है।

शायद श्मशान ही वह जगह जहाँ मनुष्य को अपने किए की याद आती है, भले बुरे कर्मों का चिंतन करता है और वापस आकर पुन: उसी प्रक्रिया में लग जाता है। इसीलिए श्मशान बैराग कहा गया है।

वकील साहब कोर्ट से आ जाते हैं तब तक मैं एक पोस्ट लिख देता हूँ। उनका वाहन अस्पताल में जनरल चेकअप के लिए भर्ती है।

तभी अख्तर खान अकेला जी याद आती है वकील साहब उन्हे फ़ोन लगा कर बुलाते हैं। तब तक हम कार लेकर आ जाते हैं।

अकेला साहब के साथ चल पड़ते हैं कोटा भ्रमण को। वकील साहब बताते हैं कि कोटा की सुंदर जगहों में एक श्मशान है 

मुक्तिधाम किशोरपुरा में जिसे कोटा के एक बिड़ला परिवार ने सजाया संवारा है। हम श्मशान में पहुंच जाते हैं। चम्बल के तीर यह श्मशान वास्तव में इस लायक है कि यहां चिरविश्राम लिया जा सकता है। 

आत्मा का परमात्मा से मिलन हो सकता है। कुछ चिताएं अभी भी सुलग रही हैं, कुछ की भस्म ठंडी हो रही है।

ज्वालाएं अंधेरे को दूर भगाने का पुरजोर प्रयास कर रही हैं। देह जला कर अंधेरा दूर भगाने का प्रयास नमन योग्य है।

मैं कुछ देर खड़े होकर उन्हें अंतिम नमस्कार करता हूँ और ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ उन्हे सदगति प्रदान करे। अरे मेरे संकट मोचक पास ही हैं, मेरे साथ यहाँ तक आ पहुंचे।प्रणाम है बाबा तुम्हे, यूँ ही साथ रहा करो।

पास ही एक अखाड़ा है जहां गदाधारी महावीर विराज मान है, कुछ पहलवाल जोर लगाने के बाद भांग रगड़ा लगाते हैं और फ़िर मस्त हो जाते हैं ठंडाई पीकर। वकील साहब ने बताया कि यहां आधा किलो भांग रोज ही चढा ली जाती है। भांग का नाम सुनकर मैं तो सिहर उठता हूँ। बनारस के काशी विश्वनाथ जी की यात्रा का स्मरण हो जाता है।
अंधेरा हो चला है कुछ ठंड भी है वातावरण में,अकेला साहब अब अधरशिला दिखाने ले चलते हैं। यह प्रकृति का एक चमत्कार है कि एक विशाल शिला यहां एक बिंदु पर आकर टिक गयी है।

अधरशिला के पास ही एक मंदिर है यहां प्यारे मिंया महबूब साहब स्थान है। इस स्थान से मंदिर के कंगुरे दिखाई देते हैं। साम्प्रदायिक सद्भाव की एक अनुठी मिशाल है। कवि यौगेन्द्र मौद्गिल की पंक्तियां याद आ जाती हैं- मस्जिद की मीनारें बोलीं, मंदिर के कंगूरों से, संभव हो तो देश बचा लो मज़हब के लंगूरों से.." हम अधरशिला देखते हैं।

अधरशिला के नीचे थोड़ी सी जगह है जहां से बच्चों को पार कराया जाता है। अकेला भाई ने बताया कि किवदंती है कि हराम का जना बच्चा इसमें फ़ंस जाता है और सही बच्चा पार निकल जाता है। सोचना पड़ा कि जब बच्चा इस संकरी जगह में परीक्षा दे रहा होगा तो उसके माँ बाप के चेहरों पर किस किस तरह के भाव उमड़ रहे होगें। ये परीक्षा बच्चों की नहीं माँ बाप की होती है। समझ लो कि "हुई गति सांप छछुंदर केरी"

पास ही एक कब्रिस्तान है जहाँ बहुत सारे लोग कयामत का इंतजार कर रहे हैं कितनी लगन है इस इंतजार में। नहीं तो किसी का इंतजार करना, ना रे बाबा ना, मेरे लिए तो बहुत कठिन काम है। लेकिन यहां तो इंतजार करना ही पड़ेगा।

यहां किसी की सिफ़ारिश पर्ची या टेलीफ़ोन पैरवी नहीं चलती। सभी को इंतजार करना पड़ता है। अकेला साहब ने बताया कि कोटा के प्रसिद्ध डॉ ए क्यु खान साहब ने अपनी कब्र खुदवा रखी है। इनकी पत्नी का इंतकाल लगभग 30 वर्ष पूर्व हो गया था। डॉक्टर साहब की ख्वाहिश थी कि उनकी फ़ौत के बाद वे अपनी पत्नी की कब्र के पास ही दफ़न हों।

इन्होने एडवांस बुकिंग इस्लामिक रिवाज के अनुसार करवा ली। इस्लामिक रवायत के अनुसार जो भी शख्स अपने दफ़न के लिए जगह आरक्षित करता है उसे प्रतिवर्ष उस कब्र के बराबर अनाज भरकर ईद से पहले गरीबों में बांटना पड़ता है और इस कार्य को डॉ ए क्यु खान साहब पिछ्ले 30 सालों से अंजाम दे रहे हैं।

श्मशान और कब्रिस्तान से अब हम चल पड़े बाजार की तरफ़ जहां उम्दा पान हमारा इंतजार कर रहे थे। पेशे से पत्रकार और अधिवक्ता अख्तर खान अकेला साहब उर्दु साहित्य पर भी अच्छी पकड़ रखते हैं।

उन्होने “अकेला” तखल्लुस का राज भी खोला। पान की दुकान पर जाने से पहले हमने कोटा की उम्दा कुल्फ़ी का स्वाद लिया। पान के तो कहने की क्या थे। 90 नम्बर की किमाम ने जायका ही ला दिया पान में।

यहीं पर हमारी मुलाकात कोटा से प्रकाशित देनिक कोटा ब्यूरो के सम्पादक जनाब कय्यूम अली एवं प्रेस क्लब के कोटा के महासचिव जनाब हरिमोहन शर्मा जी से हुई। सभी से मिलकर बहुत अच्छा लगा।

कोटा जैसे एतिहासिक शहर में घूमना तो कम ही हुआ पर दिनेश जी के साथ घूमना अच्छा लगा। इसके पश्चात अकेला साहब के चेम्बर में भी गए जहाँ एडवोकेट आबिद अब्बासी और नईमुद्दीन काजी जी से भी भेंट हुई। अकेला साहब ने कुरान पाक की एक प्रति दिनेश जी को भेंट की और मुझे कोटा के इतिहास से संबंधित एक पुस्तक भी। मैं सभी का शुक्रगुजार हूँ।

मैने अधरशिला से एक चित्र लिया जिसमें अधरशिला में लगा ध्वज और मंदिर एक साथ नजर आ रहा है। एक चक्कर हमने कोटा के परकोटे का भी लगाया। लेकिन किला वगैरह नहीं देख पाए उसे बाद के लिए रख छोड़ा

कोटा के विषय में एक जानकारी और दे दूँ कि यहां थर्मल, हाइड्रो, एटमिक और गैस से बिजली का निर्माण होता है।

मेवाड़ एक्सप्रेस रात डेढ बजे कोटा से चित्तौड़ जाती है। हम घर पहुंच कर जीम लिए और  रवि स्वर्णकार जी से फ़ोन पर बात हुई, वे रावत भाटा में थे। कोटा होते तो मुलाकात हो जाती।

कुछ देर आराम करने के बाद एक बजे उठे तो पता चला की गाड़ी कुछ देर लेट चल रही है। वकील साहब के साथ स्टेशन पहुंचे तो पता चला गाड़ी एक घंटे लेट है। प्लेटफ़ार्म पर वकील साहब से चर्चा होती रही।

वकील साहब का जीवन भी संघर्ष से भरा प्रेरणादायी है। ट्रेन आ गयी, हमारा रिजर्वेशन नहीं था लेकिन आराम से सोने के लिए सीट मिल गयी। तब तक सुबह का अखबार भी आ चुका था। वकील साहब से हमने विदा ली और चल पड़े चित्तौड़ गढ की ओर इंदुपुरी, पद्मसिंग और रानी पद्मिनी से मिलने के लिए…………..। आगे पढ़ें 

25 टिप्‍पणियां:

  1. खूब घूमाघामी हो गयी है ...
    हम इतने वर्षों से राजस्थान में रहने के बाद भी कोटा कभी नहीं गए ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. टिकट कैंसल ज़रुर करवा ली थी, लेकिन घूम आप ही के साथ रहे हैं

    सधी हुई शैली में लेखन

    उत्तर देंहटाएं
  3. ''सुंदर जगहों में एक श्मशान है मुक्तिधाम किशोरपुरा'' और फिर डॉ ए क्यू खान साहब का पिछ्ले 30 सालों अनाज बांटना, ल्रगा कि मौत में भी जिंदगी के रंग होते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय ललित शर्मा जी
    नमस्कार
    बहुत रोचक विवरण ....शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  5. ललित डॉट कॉम पर सबसे बेहतरीन लेख (मेरे ख्याल से)

    पंडितजी, बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अध्यात्मिक मोड में लिखा गया यात्रा वृतांत बहुत शानदार रहा..आगे इन्तजार है चित्तौड़ पहुँचने का आपके/

    उत्तर देंहटाएं
  7. जेवण दर्शन से साथ लेख कि सुरुआत और यात्रा का पूरा विवरण ..अच्छा लगा ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. ...yaadgaar pal ... rochak mulaakaaten ... behatreen abhivyakti !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जारी रहे वृतांत - अच्छा लग रहा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. कोटा यात्रा में शमशान ही देखा? चम्‍बल गार्डन ही घूम आते। वैसे कोटा में कुछ विशेष है भी नहीं घूमने का। अब चित्तौड़ पर पोस्‍ट का इंतजार रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छा लगा वृतांत .आगे का इंतज़ार है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. कोटा में इन दो महारथियों के अलावा कुछ नहीं है | और जो इन दोनों से मिल लेता है उसे वंहा घूमने की जरूरत भी क्या है |

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बढिया विवरण और तस्वीरें। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जनाब ललित भाई आदाब जो हमने और आपने मिलकर देखा उसे आज आपके अल्फाजों में जब देखते हें तो ऐसा लग लगता हे मानो ज़िंदा हालात सामने हो एक एक अलफ़ाज़ में आपने जो जान डाली हे उसने कोटा को धन्य कर दिया और आज सारे देश और विश्व में आपके कारण धन्य कर दिया और पूरा कोटा पूरा हाडोती में अख्तर खान अकेला और जनाब दिनेश राय द्विवेदी जी सहित सभी साथी आपके शक्र गुज़ार और फिर से तलब गार हें . अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

    उत्तर देंहटाएं
  15. ये उधर जाने का कारण क्या था भाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढ़िया रहा रोचक यात्रा विवरण ....

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपका जवाब नहीं दादा .... कहाँ कहाँ घुमवा दिए ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  18. आज ही चार पोस्टो के द्वारा भ्रमण कर रहा हूं . यह टीचर कब से ठंड दूर करने वाले हो गये

    उत्तर देंहटाएं
  19. अहा! ये विवरण तो आपने भेड़ाघाट भ्रमण पर हमें बतलाया भी था। पुन: सजीव हो उठा। आपके साथ हमारे गुरू दिनेशराय जी नज़र आ रहे हैं। उन्हें प्रणाम। अकेला जी को सलाम। और जनाब ख़ान साहब की उल्फ़त के लिए हमारे पास अल्फ़ाज़ नहीं हैं। ये शेर मुलाहिजा फ़रमाइए:-
    हमको तो जागना है तेरे इंतज़ार में
    आई हो जिसको नींद वो सोए मज़ार में

    उत्तर देंहटाएं
  20. ह्म्म्म तो ये सारा मंजर है चित्तोड आने से पहले का.
    कोटा के प्रसिद्ध डॉ ए क्यु खान साहब के बारे में पढ़ कर मन भर आया....तीस साल बाद और उसके सालों सालों बाद भी वे अपनी बेगम के पास ही चैन की नींद लेना चाहते हैं.उन्हें कोई अलग ना कर दे शायद इसीलिए .....क्या बोलू?
    जानते हैं मैं ईश्वर से जब भी कुछ मांगती हूँ क्या मांगती हूँ ?
    हम दोनों एक दिन जाये.एक साथ रहेंगे मेडिकल कोलेज में भी एकदम पास पास.बाते करेंगे.मैं बाते करूंगी वो लेते लेते चुपचाप सुनते रहेंगे.कभी कभी आस पास सोये शरीरों को जगायेंगे और...अन्ताक्षरी करेंगे.
    डॉ साहब के पास तो कितनी बाते होंगी अपनी बेगम को सुनाने के लिए.....?????
    @ डॉ साहब
    किन्तु इतनी जल्दी नही जाने देगी आपको 'उनके'आगोश में.कितने गरीबों की दुआए हैं जो रोक लेगी आपको यहाँ से जाने से क्योंकि आप जैसे लोगो के कारन ही ये दुनिया रहने के काबिल बनी हुई है डॉक्टर साहब!
    थेंक्स ललित भैया !

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत अच्छा लगा कोटा वृत्तांत ...द्विवेदी जी का भित्तिचित्र चित्तौड़ में उनका इंतज़ार कर रहा था... लेकिन हमारा सौभाग्य नहीं था कि हम मिलें... हमारी ट्रेन भी कोटा से गुजरी तो रात में ... अगले दौर में इन दोनों महानुभावों से मिलने की आशा रखता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं