गुरुवार, 29 सितंबर 2011

अपन खाथे गूदा गूदा, हमला देथे बीजा बीजा --- ललित शर्मा

छत्तीसगढ की विद्युत व्यवस्था चरमरा गयी है, सरपल्स बिजली होने का दावा करने वाले राज्य में विगत 4 दिनों से अघोषित विद्युत कटौती का सामना करना पड़ रहा है, बिजली कब जाती है इसका पता नहीं। आज रात भर बिजली बंद रही, मंत्रियों के बंगले पर दिन में भी स्ट्रीट लाईट जल रही है और गाँव कस्बों में रात में भी बिजली नहीं। इससे आक्रोश बढता जा रहा है। नवरात्रि का उत्सव चल रहा है, गाँव कस्बों में दुर्गा पूजा चल रही है, दुसरी तरफ़ बच्चों के तिमाही इम्तिहान जारी है। ऐसे समय में बिजली उपलब्ध न होने के कारण बच्चों की पढाई में व्यवधान उत्त्पन्न हो रहा है।

अम्बेडकर मंगल भवन सिविल लाईन रायपुर के पास की जलती हुई स्ट्रीट लाईट 4 बजे दिन
जनता पड़े भाड़ में नेताओं को तो अपना सुख चाहिए, खैर जनता ने चुन कर भेजा है इतना हक तो बनता है यार  :)। विद्युत व्यवस्था सुधरे तो फ़िर मिलते हैं, नयी पोस्ट के साथ। नवरात्रि पर्व की शुभकामनाएं एवं बधाई।

NH-30 सड़क गंगा की सैर

26 टिप्‍पणियां:

  1. ये फोटो कहती है कि वो गूदा बिखरा भी रहा है :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. dian ke sobha surujdewata
    rat ke sobha bijali
    dian ke bijali barhu t
    andhiyar hohi ghar kuriya gali.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस ओर गंभीरता से ध्‍यान दिया जाना जरूरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह बिजली और बिजली के नखरे ....किसे दोष दें व्यवस्था का आलम ही कुछ ऐसा है ...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. bhai lalit ji kho to kota se kuchh bijli bhej den vese khbar achchhi or prtutikaran bhtrin hai badhaai ho aakhir bde bhaia kiske hai ...............akhtar khan akela kota rajasthan

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर जगह की यही स्थिति है , शायद किसी ने बहुत पहले ही इसलिए कहा था कि आज देश में बिजली उत्पादन से ज्यादा बडी समस्या उसके सही वितरण और संचालन की है । जागरूक करती पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  7. सरकार के भरोसे रहने की आदत छोड़ो और इन्‍वर्टर लगवाओ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सरकारी मामला तो हर राज्य में ऐसे ही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. @ajit gupta

    इन्वर्टर को भी बिजली से ही चार्ज होना है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बिजली की आँख मिचोली देखना हैं तो वसई पधारे ८ घंटे तो वैसे ही कटौती चलती हैं .. ४ घंटे सुबह ..२ घंटे दोपहर को --२ घंटे शाम को ...कहने को बाम्बे हैं पर यह बाम्बे का गाँव हैं इसलिए !
    हमने इनवेटर लगा रखा हैं पर वो भी फेल हो जाता हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. छत्तीसगढ में सरपल्स बिजली तो है, लेकिन वितरण व्यवस्था ठीक नहीं होने के कारण आये दिन अघोषित विद्युत कटोती का सामना करना पड़ रहा है......!

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिन में जलती तो हमने भी देखी है । और रात में गुल । मेरा भारत महान !

    उत्तर देंहटाएं
  13. ताऊ इन्वर्टर लगवाओ फ़िर चार्जिंग की भी जरूरत नही पडेगी, एडवांस भेजकर जल्दी बुकिंग करवायें, बाद में माल नही मिलेगा.:)

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  14. हम भी भारत से रोज यही शिकायत सुनते हैं.लगता है हर जगह ही यही हाल है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बल्ब बेचारा क्या करे वह कुछ बोल तो सकता नहीं खुद को फूंक कर ही गैर-जिम्मेदारों का ध्यान आकर्षित करने की नाकाम चेष्टा करता रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सरप्‍लस बिजली की बात तो सिर्फ कागजों में रह गई है।
    हर दिन घोषित और अघोषित कटौती बदस्‍तूर जारी है और बिजली का बिल भी भारी भरकम।
    रोजमर्रा की समस्‍या को उठाती हुई अच्‍छी पोस्‍ट।
    आभार.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी समस्या जल्दी सुलझे ...
    नवरात्र की बहुत शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  18. अपने इलाके में अलग ही समस्या है। बिजली सप्लाई तो ठीक है आए दिन ट्रांसफार्मर उड़ जाया करते हैं। सुना है कि घटिया किस्म के सामान भी इस्तेमाल हो रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बिजली पानी भरपूर सप्लाई मिलती रहे इसके लिए किसी मंत्री के घर के पास घर होना चाहिए अपना भी हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  20. पहले इ बताइये NH-30 सड़क पर कब तक सेर करेंगे... ओर दूसरे क्या सारे मसले इसी सड़क पर सुलझाने का इरादा हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  21. aapki vyatha ab to lagbhag har rajya ki vyatha hai....har rajya jaha bijali ki kami se joojh raha hai vahi bechi gayee bijali ki keemat ke barabar paisa nahi mil pane ki sthiti bhi hai...abhi ye takleef isliye hai kyonki sinchai ka season shuru ho gaya hai aur jin rajyon se bijali bechane ka contract kiya ja chuka hai use bhi poora karna hai ..kuchh dino me ye aghoshit katouti ghoshit me badal jayegi fir takleef thodi kam hogi...

    उत्तर देंहटाएं
  22. कहने को बहुत विकास हुआ है। आजादी के बाद कथित तौर पर गांव गांव में बिजली की सुविधा दी है। मगर कटौती के चलते केवर तार बिछने को ही बिजली की सुविधा मानने का भ्रम विकास है। यहां भी यही हाल हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  23. मध्य प्रदेश की राह पर एक दिन तो जाना ही था...आखिर है तो वही...

    उत्तर देंहटाएं