मंगलवार, 10 जनवरी 2012

गर्भपात ------------- ललित शर्मा

एक पुरानी रचना प्रस्तुत कर रहा हूँ, इस रचना के जन्म के पीछे एक कहानी है, खेती का काम चाचा जी देखते थे। उनके देहावसान पश्चात खेती का काम मुझे करवाना पड़ा। खर्च अधिक और फ़सल कम, हर साल घाटा ही घाटा। एक बरस आस-पास के किसानों ने अपनी फ़सल काटी, फ़सल कटते ही दो दिन बरसात हुई और सारा धान खेतों में पड़े पड़े ही उग गया। मैने सबके बाद बरसात बंद होने पर धान कटाई करवाया। जैसे ही धान कटा, बरसात फ़िर शुरु हो गयी और लगातार 5 दिन पानी गिरा। सारी पकी पकाई फ़सल चौपट हो गयी। 6 एकड़ से 32 बोरा (एक बोरे में 75 किलो की भरती) धान हुआ। साल भर की मेहनत पर पर पानी फ़िर गया। 


एक बीज से आस लगी थी, मृगतृष्णा सी प्यास जगी थी,
सारा चौपाल सूना-सूना था, जैसे गांव में आग लगी थी,
चारों तरफ़ सन्नाटा-ही सन्नाटा,जैसे सन्निपात हो गया,
उगे बीज को मरते देखा,
जैसे गर्भपात हो गया।

तेरे इस विशाल नीले आँचल में, पंख फैलाये उड़ता था मै,
प्रगति के नए सोपानों में, नित्य सितारे जड़ता था मै,
ऐसा क्या अपराध हो गया, मुझ पर क्यों आघात हो गया,
उगे बीज को मरते देखा,
जैसे गर्भपात हो गया,

पहले भी मै तडफा-तरसा था, तू कभी न समय पर बरसा था,
लिए हाथ में धान कटोरा मै, दु:ख में भी बहुत - बहुत हर्षा था,
नई सुबह की आशा में था, सहसा ही वज्रपात हो गया,
उगे बीज को मरते देखा,
जैसे गर्भपात हो गया,

गीली मेड़ की फिसलन पर, मै बहुत दूर जा फिसला हूं,
तेरी किरपा की आस लिए मै, नित तुझको ही भजता हूँ,
डोला गगन आया विप्लव,जैसे कोई उल्का पात हो गया,
उगे बीज को मरते देखा,
जैसे गर्भपात हो गया,

असमय बरसा तो क्यों बरसा,चारों ओर हा-हा कार हो गया,
जिस पर अभी यौवन छाना था,वो जीवन से बेजार हो गया,
तू ही बता असमय वर्षा पर, रोऊँ या मै जान लुटा दूँ,
लूटा-पिटा बैठा हूँ अब मै ,जैसे कोई पक्षाघात हो गया,
उगे बीज को मरते देखा,
जैसे गर्भपात हो गया।

21 टिप्‍पणियां:

  1. ललित एक रूप अनेक.......बहूतेच सूंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  2. फसल के नुकसान को उगे बीज के गर्भपात से जोड़ एक नया आयाम दिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुःख बहुत दुःख होता है ऐसी घटना से लेकिन जीवन है धूप-छाँव आती जाती रहती है... प्रकृति का नियम है सुख-दुःख फिर सुख.... आशा पर दुनिया कायम है... शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतर शिल्प और भाव को जिन शब्दों के माध्यम से अभिव्यक्त किया है वह ...निश्चित रूप से प्रासंगिक है ..... " गर्भपात " शब्द ने कविता को कालजयी बना दिया ....और एक नया बिम्ब गढ़ दिया ..!

    उत्तर देंहटाएं
  5. किसान मन ही ठीक-ठीक समझ सकेगा यह भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कभी -कभी इंसान कुदरत के आगे मजबूर हो जाता हैं ....पर वो मायूस हो बैठता नहीं,अपने काम पर दुबारा दुने जौश से लग जाता हैं --
    यही जीवन -चक्र हैं ..यही जिन्दगी का सच हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह पीड़ा इससे अधिक संवेदनात्मक अभिव्यक्ति नहीं पा सकती थी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अति सुन्दर रचना हैं
    यही जिन्दगी का सच हैं

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिंदगी की वास्‍तविकता को करीब से समझाती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  10. गर्भपात सा ही हुआ अनुभव होता है जब ऐसी स्थिति हो जाती है तो..... जो भी कष्ट आपकी आत्मा ने सहा उसको ज्यो का त्यों आपने शब्दों में ढाल लिया...ये भी अनुपम साहस है.....

    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहद संवेदनशील अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर ढंग से मन:व्यथा कह डाली आपने! जिस तरह एक नौकरी पेशा वाला इन्सान प्रोमोशन और वेतन वृद्धि की आश लगाये रहता है, एक कृषक के लिए यही सबकुछ उसका खेत होता है, उसकी फसल होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक खेतिहर की दर्दभरी दास्ताँ. बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  14. उगे बीज को मरते देखना कितना यातनादायक है, इसे कविता में बहुत ही मार्मिकता से उभारा है। किसान की व्यथा को कविता के जरिये सबके सामने लाने के लिये आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  15. किसानों के साथ अक्सर ऐसा होता रहता है :(

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक किसान की ऐसी बढ़िया रचना पढ़कर , फिर कभी बरसात की ऐसी हिम्मत नहीं हुई होगी । :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. अद्भुत रचना ..
    आशा के टूटने को ..
    सही अभिव्‍यक्ति दी है !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. मन को मंत्रमुघ्द करने वाली रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  19. "उगे बीज को मरते देखा,
    जैसे गर्भपात हो गया,"

    वाह ! करूण रस जगाती सूंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं