रविवार, 29 जनवरी 2012

खिल गयी क्यारी क्यारी ----- ललित शर्मा

संतागमन हो चुका, खिल गयी क्यारी क्यारी। चलने लगी बयार दोधारी। प्रकृति का अदभुत सौंदर्य देखते ही बनता है, आँखो में भी नहीं समाता। कैमरे की आँख भी उसे सहेज नहीं पाती है। इस मधुर अवसर पर जब मधुकर का गुंजन हो रहा है तब कवि के मन में भी प्रकृति को शब्दों में सहेज लेने की प्रबल इच्छा प्रकट होती है। ऐसा ही एक प्रयास है, आपको पसंद आए। एक लम्बी यात्रा के बाद कुछ फ़ुरसत के क्षण विश्राम के लिए भी निकालने पड़ते हैं। इसके बाद माह फ़रवरी से एक यात्रा पर पुन: चलेगें। कुछ देखेगें, नया तलाशने की कोशिश करेगें। वसंतागमन की हार्दिक शुभकामनाएं

सरसों  ने  ली अंगडाई गेंहूँ की बाली डोली
सरजू ने ऑंखें खोली महुए ने खुशबु घोली

अमिया पर यौवन छाया जुवार भी गदराया
सदा सुहागन के संग-संग गेंदा भी इतराया
जब रजनी ने फैलाई झोली 
गेंहूँ की बाली डोली

रात-रानी के संग गुलमोहर भी ललियाया
देख महुए की तरुणाई पलाश भी हरषाया
जब कोयल ने तान खोली
गेंहूँ की बाली डोली

बूढे पीपल को भी अपना आया याद जमाना
ले सारंगी अपनी उसने छेडा मधुर तराना
जब खूब जमी थी टोली
गेंहूँ की बाली डोली

गज़ब कहर बरपा है महुए के मद का भाई
आज चांदनी बलखाई बौराई थी तरुणाई
खुशियों की भर गई झोली
गेंहूँ की बाली डोली

19 टिप्‍पणियां:

  1. वसंत का बहुत अच्छा चित्रण |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  2. "अमिया पर यौवन छाया जुवार भी गदराया
    सदा सुहागन के संग-संग गेंदा भी इतराया
    जब रजनी ने फैलाई झोली
    गेंहूँ की बाली डोली.."वाह !!!!!!!!!

    इस बासंती रंग ने आखिर आपको भी रंग ही दिया .....
    महुए की खुशबु ने आखिर आपको भी मदहोश कर ही दिया...
    बहुत सुंदर रचना लिखी हैं कविमन ने ..आभार ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. "खुशियों की भर गई झोली
    गेंहूँ की बाली डोली..."

    शब्दों में खिला वसंत इस वसंती मौसम से कम नहीं...बहुत सुन्दर...आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  4. चलिए, बसंत का स्वागत हम भी करते हैं आपके साथ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ‘ललियाया‘ ने बसंत की छटा शतगुणित कर दी।

    बसंतागमन की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह ! वसंत का पूरा प्रभाव नज़र आ रहा है ।
    आनंद लेते रहिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ब्लॉग बुलेटिन पर की है मैंने अपनी पहली ब्लॉग चर्चा, इसमें आपकी पोस्ट भी सम्मिलित की गई है. आपसे मेरे इस पहले प्रयास की समीक्षा का अनुरोध है.

    स्वास्थ्य पर आधारित मेरा पहला ब्लॉग बुलेटिन - शाहनवाज़

    उत्तर देंहटाएं
  8. सरसों ने ली अंगडाई गेंहूँ की बाली डोलीसरजू ने ऑंखें खोली महुए ने खुशबु घोली.....

    आया बसंत ...मन भाया बसंत

    उत्तर देंहटाएं
  9. बसंत आगमन की बधाई आपको | बसंती हवाओं की महकती सी पोस्ट है आपकी आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुते बढ़िया लिक्खे हैं भाई , बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं