बुधवार, 20 जनवरी 2010

दिल से दिल की राह होती है!!

क बार अकबर और बीरबल कहीं जा रहे थे. सामने से कुछ फासले पर उन्हें एक जाट आता हुआ दिखा. 
अकबर ने बीरबल से कहा- इसे देख कर मेरा मन कहता है कि इसे गोली मार दूँ. 
देखें उसके मन में मेरे प्रति क्या विचार आते हैं? 
जब वह जाट उनके समीप आया तो बीरबल ने बादशाह की तरफ इशारा करके
उस जाट से पूछा कि-भाई डरो नहीं! सच-सच बताओ, 
" जब तुम्हारी नजर इस आदमी पर पड़ी तो तुम्हारे मन में क्या ख्याल आया था? 
उस जाट ने कहा कि मेरा दिल चाहता था कि इस आदमी की दाढ़ी खींच लूँ. 
अब पुष्टि हो चुकी थी कि दिल से दिल की राह होती है. 

10 टिप्‍पणियां:

  1. बसंत पंचमी कि हार्दिक शुभकामनायें |
    <a href="http://techtouchindia.blogspot.com>TechTOUCH आज की पोस्ट </a>

    उत्तर देंहटाएं
  2. sahi hai !!! vibration to milte hi hai !! basant panchmi ki shubh kaamnaa!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्कुल सही है जी! दिल से दिल की राह होती है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाय!! ऐसी राह!! दिल से दिल की...

    :)

    वसंत पंचमी की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लॉगवाणी में पोस्ट देखते ही मेरे मन में भी आया कि चलो चटका लगाकर पोस्ट पढने चलते है |

    उत्तर देंहटाएं
  6. वसंत पंचमी की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. राजा तो राजा होता है वह कुछ भी सोच सकता है ..प्रजा बेचारी इस से ज़्यादा नही सोच पाती ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. hmm..raja or praja ke beech kahe ka dil or kahe ki raah :) ....basantpanchmi ki shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हाय हाय क्या कह दिया ललित जी। वाह क्या कहने। आपको बसंत की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं