शनिवार, 30 जनवरी 2010

चित्रोत्पला गंगा के त्रिवेणी संगम पर-“राजिम कुंभ”

आज माघ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा है.  भगवान राजीव लोचन की नगरी राजिम में कुम्भ मेला प्रतिवर्षानुसार प्रारंभ हो रहा है. तिन नदियों के संगम पर बसा हुआ राजिम प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है. यहाँ चित्रोत्पला गंगा महानदी के किनारे यह कुम्भ मेला भरता है. त्रिवेणी संगम पर भगवान कुलेश्वर महा देव का प्राचीन मंदिर है. छत्तीसगढ़ प्रदेश का यह प्रमुख आयोजन है. यह कुम्भ मेला शिवरात्रि तक चलता है. लाखों श्रद्धालु यहाँ आकर स्नान करते हैं. मंदिरों में दर्शनकर प्रसाद पाते है. यह कुम्भ मेला छत्तीसगढ़ के वासियों की आस्था के साथ जुड़ा है. राजिम कुम्भ की झलक गत वर्ष के चित्रों के माध्यम से प्रस्तुत है.
कुछ झलकियाँ “राजिम कुंभ” राजीव लोचन मंदिर
rajim7
कुलेश्वर महादेव मंन्दिर
rajim5
कुलेश्वर महादेव
rajim6
नागा साधु
rajim3
नागा साधु
Rajim kumbh
शाही स्नान
rajim 1
मेले का दृश्य
ramij4
संत प्रवचन
rajim2
फ़ोटो-रोमा कम्प्युटर से साभार (गत वर्ष के चित्र)

7 टिप्‍पणियां:

  1. साक्षात दर्शन करा दिये भैया राजीवलोचन जी का.

    पिछला पोस्ट भी बहुत ज्ञानवर्धक रहा. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. घर बइठे राजिमलोचन के दरसन करवा हस महराज! बहुतेच बने लागिस हे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब गुरजी, मैं भी नाह लिया !

    उत्तर देंहटाएं
  4. इसमे एक कवि सम्मेलन भी होता है जिसमे लोग हमारी कविता के रस मे नहाते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ... अदभुत दर्शन,प्रभावशाली प्रस्तुति!!!!

    उत्तर देंहटाएं