बुधवार, 23 जून 2010

ललित डॉट कॉम के सौ फ़ालोवर

आज शाम को ललित डॉट कॉम पर 100 फ़ालोवर दिख रहे हैं। कई दिनों से 98 पर गाड़ी अटकी हुई थी फ़िर हमारे एक मित्र ने नयी योजना के तहत ब्लागों को फ़ालो करना बंद कर किया।

इस योजना की चपेट में आकर 97 की संख्या हो गयी। फ़िर 99 का चक्कर कई दिनों तक चला। आज जा कर एक सैकड़ा पूरा हो गया। हमने भी सोचा चलो एक शतक फ़ालोवर्स का भी लग गया।


जब से ब्लागवाणी बंद है कुछ लिखने का मन नहीं है। दिल्ली यात्रा के बाद लगातार यात्राओं का ही दौर चल रहा है। आज भी एक सप्ताह की यात्रा पर जा रहे हैं सिर्फ़ भ्रमण करने के लिए, प्रकृति का आनंद लेने के लिए।

पिछ्ले 8 महीनों से हमने बहुत कम यात्राएं की और सिर्फ़ ब्लागिंग ही की। लेकिन अब शायद ब्लागिंग लगातार होना कठिन लग रहा है क्योंकि यात्राओं का दौर प्रारंभ हो चुका है। हां! इससे एक फ़ायदा अवश्य होगा कि अब ब्लागर बंधुओं से भी मुलाकात होते रहेगी। चाहे आधे घंटे की ही क्यों न हो।

अगर रास्ते में नेट व समय मिला तो अवश्य ही कुछ जानकारियाँ आप तक पहुंचाएगें। क्योंकि यात्राओं में बहुत सारी लेखन सामग्री मिल जाती है। यात्रा के अनुभवों को लिखने के लिए मैने नया ब्लाग भी बना दिया है।

हमारे संजीव भाई बहुत दिनों से कह रहे थे कि यात्रा संस्मरण लिखना प्रारंभ किजिए। बस कुछ दिन यही सोचते हुए निकल गए कि कहां से प्रारंभ किया जाए? लेकिन अब प्रारंभ करना ही पड़ेगा चाहे कहीं से भी हो।

मेरी इन यात्राओं पर समय,काल, एवं तत्कालीन परिवेश का भी असर स्पष्ट दिखेगा। आज बहुत कुछ परिवर्तित हो चुका है, बहुत कुछ बदल चुका है।

सफ़र में ब्लाग पर मिलना संभव हुआ तो अवश्य ही मिलते हैं, मिलना संभव नहीं हुआ तो सफ़र से लौट कर मिलते हैं। तब तक के लिए आज्ञा..................

17 टिप्‍पणियां:

  1. ...सेंचुरी ठोक दिये ललित भाई ... बधाई ... मंगलमय यात्रा के लिये शुभकामनाएं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. शतक जड़ने की बहुत बहुत बधाई। फूलों की (फ़्लोवर्स और फ़ोलोवर्स)बगिया मे तो मधुमक्खियां झूमेंगी ही। पुन: बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. फोलोअर्स के शतक के लिए बधाई....आपकी यात्रा सुखमय रहे...इसके लिए शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये तो बता दो कि जा कहां रहे हो।

    उत्तर देंहटाएं
  5. 1०० की बधाई और यात्रा की शुभकामनायें । यूँ ही आगे बढ़ते रहो भाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. @Niraj JaT

    abhi NAGPUR me pahunche hain. kal nikalenge gujarat ki taraf.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सेंचुरी ठोक दिये ललित भाई ... बधाई ... मंगलमय यात्रा के लिये शुभकामनाएं !!!
    Read More: http://lalitdotcom.blogspot.com/2010/06/100.html

    उत्तर देंहटाएं
  8. शतक की बधाई और यात्रा की शुभकामनाऎँ!!
    अब के गाडी किस रूट पर निकली है? :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. :) बढ़िया ...बधाई हो जी, वैसे अभी तो १०१ दिख रहे है , दक्षिणा के रुपये कि तरह :)
    पार्टी बनती है एक अब तो :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरे वा ऐसा ज़िक्र भी किया जा सकता है हमारे ब्लॉग " शरद कोकास " पर तो 100 कबके पार कर गये हैं । हमे भी बधाई दे दो भाई

    उत्तर देंहटाएं