मंगलवार, 18 मई 2010

सड़क दुर्घटना से कोई सबक नहीं लेता

सड़क दुर्घटनाओं से कोई सबक नहीं लेता, हुआ यूं कि हम गए थे ताऊ शेखावाटी जी से मिलने, शाम को लगभग 5 बजे थे। 

घर से कोई 4 किलोमीटर निकले  होगें कि सामने हाई वे पर अचानक एक टाटा का छोटा हाथी सड़क पर लहराते हुए हमारी गाड़ी की तरफ़ आया, हमने सोचा कि आज फ़िर काम हो गया। एक एक्सीडेंट और झेलना पड़ेगा। 
सड़क दुर्घटना

इतने में ही उसके दांए तरफ़ के दोनो चक्के हवा में उठ गये और वह लहराता हुआ हमारी विपरीत दिशा में चला गया। सड़क के किनारे पेड़ों के बीच उसने दो पलटी खाई।

हमने तुरंत गाड़ी रोकी और दौड़ कर उनकी तरफ़ गए तो एक लड़का तो गाड़ी से बाहर आ गया था तथा दुसरा निकलने की प्रयास कर रहा था। उसे सहारा देकर निकाला, दोनो को किसी प्रकार की उपरी चोट नहीं आई थी और डर के मारे थर-थर कांप रहे थे।

मैने मोबाईल से उनके मालिक को दुर्घटना की सूचना दी और दो फ़ोटो लेकर निकल पड़ा रायपुर की ओर...................
सड़क दुर्घटना

राजकुमार सोनी दिल के भी बहुत अच्छे आदमी हैं रात उन्होने एक अपनी नई विधा का परि्चय दिया और कुछ गाने गाए।

हमने भी दुर्घटना को भूल कर गानों का आनंद लिया। "न जाने किस गली में जिन्दगी की शाम हो जाए" बस इसी अंदाज में गाने सुने, 
सड़क दुर्घटना

जब से उन्होने गाना गाया है तभी से उनके घर के बाहर भीड़ लगी है, वंस मोर वंस मोर के नारे लग रहे हैं, भीड़ को संभालने के लिए पुलिस की व्यवस्था करनी पड़ी,

हमको वहां से निकलने में ही रात के एक बज गए, स्काच का सूरुर अपने यौवन पर था, हम तो निकल लिए और सोनी जी फ़ंस गए।

अब उनकी क्या हालत है यह तो हमने पूछा नही? समय मिलते ही पूछेंगे तब तक आप उनके गाए गीतों का आनंद लि्जिए,

हमने मोबाइल से उनके दो गाने रिकार्ड किए हैं , रिकार्डिंग अच्छी नही है ....... फ़िर भी आनंद लि्या जा सकता हैं


आ री निंदिया आ जा तू (राजकुमार सोनी)




रंग और नूर की बारात किसे पेश करुं

14 टिप्‍पणियां:

  1. सचित्र संस्मरण और फिर गाने
    क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप मानें या न मानें
    पर यह सच है कि
    जलजला जलाने नहीं
    जगाने आया है
    आग लगाने नहीं
    लगी हुई आग को
    बुझाने आया है
    http://jhhakajhhaktimes.blogspot.com/2010/05/blog-post_18.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. राजकुमार भाई तो बहुमुखी प्रतिभा के धनी निकले, गजब गाया है.

    अब तो जो महफिल रायपुर में जमेगी, उसमें उनके गीत बहुत सजेंगे हमारे आपके चीयर्स के साथ.

    तारीफ करने में मैं कम नहीं हूँ...दो कह रहा हूँ, पांच गवायेंगे..तैयार रहें राजकुमार भाई. :)

    साथ १० कविता भी तो झिलवाऊँगा...हा हा!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ...वाह वाह ... वाह वाह ... वाह वाह ... !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. राजकुमार सोनी जी के गायन प्रतिभा को सभी के समक्ष लाने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद ललित जी!

    उत्तर देंहटाएं
  6. दुखद दुर्घटना लेकिन उसे भूलने की सार्थक सोच और गाने तो अति सुन्दर / राज कुमार जी को धन्यवाद और ललित जी आपको भी /

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरे ये तो सही खबर दी आपने ...राजकुमार सोनी जी को फुनवा घुमाते है और गाने सुनते है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. घणा चोखा संस्मरण...गीत भी कर्णप्रिय!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. ललित भाई
    अब क्या कहां जाए
    यूं ही गाने को कोई गाना थोड़े ही बोलते है भाई। करोके में तो आजकल बच्चे-बच्चे गा रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मै अभी तक सोच रहा था टिपिया चुका हूँ । पिछ्ले के धोके मे। दुर्घटना का जिक्र हो चुका था फोनवा मे। बहुत बढिया चित्रण्।

    उत्तर देंहटाएं