सोमवार, 23 अगस्त 2010

मर कर भी छुपाने होते हैं गम शायद

ईद का चाँद मुस्किल से दिखता है,
लैला को मजनुं मुस्किल से मिलता है।
हम तो SMS भेजते रहते हैं पर,
आपका SMS मुश्किल से मिलता है।

मेरी किसी खता पे नाराज न होना,
अपनी प्यारी सी मुस्कान कभी न खोना।
सुकून मिलता है सुनकर आपकी हंसी,
जिन्दगी में तुम कभी उदास न होना।

उम्मीदों की शमा दिल में मत जलाना,
इस जहान से अलग दुनिया मत बसाना।
आज मुड में था तो SMS कर दिया,
पर रोज इंतजार में पलकें मत बिछाना।

एक तो आपसे मुलाकात नहीं होती,
होती है तो पर बात नहीं होती।
सिर्फ़ SMS आने से दिल नहीं भरता,
क्युंकि उसमें आपकी आवाज नहीं होती।

धरती का गम छुपाने के लिए गगन होता है,
दिल का गम छुपाने के लिए बदन होता है।
मर कर भी छुपाने होते हैं गम शायद,
इसलिए हर लाश पे एक कफ़न होता है।

15 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भईया, एक SMS मेरा भी स्वीकारें -
    "किसका पीड़ा से सरोकार नहीं होता,
    भावों का मगर व्यापार नहीं होता,
    मन की बातें रख लूँ मन में,
    मन सा तो संसार नहीं होता !!! "

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज मुड में था तो SMS कर दिया

    Badhiya kavita. Thanks Bhaiya.

    Bandagi!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह-वाह, मौसम के मुताविक आप भी रूमानी हो लिए ललित जी , बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बड़ा रूमानी अंदाज है.... क्या खूब बारिश हो गई है ... हा हा बढ़िया प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. लास्ट वाला ज्यादा अच्छा है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. मर कर भी छुपाने होते हैं गम शायद,
    इसलिए हर लाश पे एक कफ़न होता है। ...vaah, bahut majedaar.

    उत्तर देंहटाएं
  7. धरती का गम छुपाने के लिए गगन होता है,
    दिल का गम छुपाने के लिए बदन होता है।
    मर कर भी छुपाने होते हैं गम शायद,
    इसलिए हर लाश पे एक कफ़न होता है।
    हम तो अंतर जाल की दुनिया से हो गए हैं दूर
    इसके बिना किस काम का वह कंप्यूटर, जिसके कुंजी पटल
    पर दौड़ती हैं अंगुलियाँ, जिसे हम और आप बटन कहते हैं
    गाड़ा भर के बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. मर कर भी छुपाने होते हैं गम शायद,
    इसलिए हर लाश पे एक कफ़न होता है।
    bahut khoob bhav...

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह वाह ललित भाई बहुत सुंदर शायरी की आप ने, लेकिन उस जमाने मै एस एम एस या मोबाईल तो था ही नही...:)

    उत्तर देंहटाएं
  10. :):)गम छुपाने के लिए कफ़न ....बहुत लाजवाब लिखा है ..

    उत्तर देंहटाएं