सोमवार, 16 अगस्त 2010

दिस प्रोग्राम इज स्पोन्सर्ड बाय

शब्द नहीं चित्र---दिस प्रोग्राम इज स्पोन्सर्ड बाय...........!



चित्र-गूगल से साभार

41 टिप्‍पणियां:

  1. बाजारवाद ने कहीं का नहीं छोड़ा है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम्पनियों के विज्ञापन ने उत्पात मचा रखा है।
    जहां देखो वहीं विज्ञापन ही विज्ञापन

    उत्तर देंहटाएं
  3. विज्ञापन के कुछ भी करेंगे
    शर्म आनी चाहिए इन्हे,पर आती नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रायोजित कार्यक्रम अच्छा रहा।
    एक चित्र ही पूरी कथा कह देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. देश की हालत क्या हो गयी भगवान
    कितना बदल गया इंसान-कितना बदल गया इंसान

    उत्तर देंहटाएं
  6. और कहीं जगह बची है क्या?
    विज्ञापन के लिए-अच्छा है प्रायोजित कार्यक्रम

    उत्तर देंहटाएं
  7. @वन्दे मातरम् जी

    कृपया इस तरह टिप्पणियाँ न करें
    मेरे ब्लाग पर आगमन के लिए शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह कटाक्ष है,हमने अपना ज़मीर भी अब विज्ञापनों में होम दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे जापानी पुरानी कहनी याद आई ...

    http://en.wikipedia.org/wiki/H%C5%8Dichi_the_Earless

    उत्तर देंहटाएं
  10. "हमें बच्चों से बेहद प्यार है,
    आखिर यही तो भावी बाजार है. "
    क्या बात है, जय हो बाजारवाद की.........

    उत्तर देंहटाएं
  11. विज्ञापन का युग है भई! सब कुछ हो सकता है! :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. बाजार की खिल्‍ली उड़ाती बच्‍चे की हंसी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. यह बाजारवाद कहाँ ले जायेगा .....

    पर बच्चे को उत्पाद माने या विज्ञापनों को .. :):):)

    उत्तर देंहटाएं
  14. बाजारवाद ने कहीं का नहीं छोड़ा है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. हा-हा-हा
    बिना बोले बहुत कुछ कहती हुई एक बढिया पोस्ट

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  16. Hi bhagvaan ab ye din bhi dekhena padega in chote chote bachcho ko .........

    उत्तर देंहटाएं
  17. आजकल हालात कुछ ऐसे ही है.

    मेरा ब्लॉग
    खूबसूरत, लेकिन पराई युवती को निहारने से बचें
    http://iamsheheryar.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

    उत्तर देंहटाएं
  18. शायद,बाज़ारवाद गर्भ तक पहुंच गया है। अन्यथा,ऐसी हालत में बच्चा मुस्कुरा कैसे सकता है?

    उत्तर देंहटाएं
  19. विज्ञापन से आय का एक और श्रोत बताने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद , ललित जी

    उत्तर देंहटाएं
  20. ho sakta hai bhavishya men ye program bhi sponsered by ho jaaye :)

    उत्तर देंहटाएं
  21. दिस कमेंन्ट्स प्रेजेन्टेड बाई ......|

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत बढिया ललित भाई
    जबरदस्त...
    इस पोस्ट को देखकर मुझे शाहरूख की फिल्म फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी की याद आ गई.
    इस फिल्म में भी जिसे फांसी की सजा दी जा रही होती है उसके कपड़ों में तमाम तरह के विज्ञापन चिपका दिए जाते हैं.
    बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत खूब .. सच है ये एक दिन हालात यही होगा
    बाजार जो न करवा दे

    उत्तर देंहटाएं
  24. जय हो विज्ञापन बनाने वाली फर्म की !!

    उत्तर देंहटाएं
  25. अब विज्ञापन से हम उत्पाद को नहीं खरीदते बल्कि हमसब अब विज्ञापन के उत्पाद बना दिए गयें हैं ,इसमें मिडिया पर पूरी तरह लोभी लालची,अनैतिक और भ्रष्ट लोगों का कब्ज़ा हो जाना सबसे प्रमुख कारन है अब मिडिया द्वारा अनैतिकता को बेचा जा रहा है और इसमें देश के 95% मिडिया को चलाने वाले लोग शामिल हैं और सरकारी भ्रष्टाचार और सम्बेदन्हीनता भी इसी मिडिया के वजह से है ..हमसब को इस दिशा में गंभीरता से सोचते हुए ऐसे मिडिया को खत्म करने की ओर सोचना चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. क्रूरता की मिसाल !! इसे बाज़ार कहते हैं और हम सभी कहीं न कहीं इनके चंगुल में हैं.
    आपने वही कहा है या कहने की कोशिश की है.जो सच है सूरज सा चमकता हुआ!

    हमज़बान यानी समय के सच का साझीदार
    पर ज़रूर पढ़ें:
    काशी दिखाई दे कभी काबा दिखाई दे
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

    उत्तर देंहटाएं
  27. यह इस दुनिया मे आने के बाद का चित्र है तो इसके बाद क्या होगा ?

    उत्तर देंहटाएं
  28. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    उत्तर देंहटाएं