बुधवार, 17 मार्च 2010

शीशे की सुंदर चित्रकारी-खाटु श्याम मंदिर खरसिया

रायगढ जिले मे खरसिया एक तहसील हैं,बड़ा व्यापारिक केन्द्र भी है। अभी पिछले दिनों मै वहां के प्रवास पर था तो एक बहुत ही खाटु श्याम जी का सुंदर मंदि्र देखा जिसमे कांच की सुंदर पच्चीकारी थी। 

बेल्जियम के कांच से सुंदर चित्र बने हुए थे। कुछ चित्र मैने अपने मोबाईल से लिए हैं। शीशे के चित्र लेना वैसे भी कठिन होता है छवि परिवर्तित होती है। खरसिया 36 गढ  में स्थित है कुछ चित्र आपके लिए प्रस्तुत कर रहा हूँ   

 खाटुवाले श्याम जी की जय

शिव-पार्वती-गणेश जी

कृष्ण भगवान
 
गोर्वधन पर्वत


यमुना किनारे


 

























राधा कृष्ण

12 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बहुत ही अदभुद चित्र, आभार बाबा के दर्शन करवाने के लिये.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह! बहुत ही सुन्दर चित्रकारी है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. खाटू नरेश की जय हो !
    तिन वाण धारी की जय हो !
    शीश दातार की जय हो !
    खाटू वाले बाबा की जय हो !
    सच्चे दरवार की जय हो !जय हो ! जय हो !

    उत्तर देंहटाएं
  4. चित्रो के लिये ओर जानकारी के लिये आप का ओर खाटू बाबा का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह अद्वितीय बेहद खूबसूरत...बहुत शुक्रिया दर्शन करने का

    उत्तर देंहटाएं
  6. अद्भुत...आभार आपका इन चित्रों को हम तक लाने का!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर जानकारी . छत्तीसगढ़ ब्लाग में भी इसे स्थान दें

    उत्तर देंहटाएं
  8. ...बेहद प्रसंशनीय प्रस्तुति, साक्षात दर्शन हो गये ....बहुत बहुत आभार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बहुत सुन्दर चित्र उपलब्ध करवायें हैं आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ! ये तो उसी तरह बढ़िया चित्र है जैसे खाटू श्याम जी के शेखावाटी स्थित मंदिर में है |
    शेखावाटी के मंदिरों को खंडित करने के लिए मुग़ल सेनाएं कई बार आई जिसने खाटू श्याम ,हर्षनाथ ,खंडेला के मंदिर आदि खंडित किए | एक कवि ने इस पर यह दोहा रचा -

    देवी सजगी डूंगरा , भैरव भाखर माय |
    खाटू हालो श्यामजी , पड्यो दडा-दड खाय ||

    उत्तर देंहटाएं