शुक्रवार, 5 मार्च 2010

कंप्यूटर हार्ड डिस्क की जघन्य हत्या

मारे कंप्यूटर पर दुश्मन कीट का हमला हो गया................ कंप्यूटर में उपस्थित मित्र कीट उनसे लड़ते रहे.........इसी पानीपत की लड़ाई जैसे घनघोर युद्ध में कंप्यूटर की हार्ड डिस्क शहीद हो गई.............दुश्मन कीट से युद्ध कल रात तक चलता रहा......... . मित्र कीटों ने भी बड़ी मुस्तैदी से अपने कार्य को अंजाम दिया........ ....... लेकिन उन्हें रसद की और जरुरत थी......... ...........कुमुक जब तक रसद ले कर पहुँचती तब तक हार्ड डिस्क तबाह हो गई थी.................कंप्यूटर के दुश्मन कीट और मित्र कीट महाभारत के धर्म युद्ध जैसे लड़ते हैं..........दिन में युद्ध चलता है और रात को विश्राम के समय आपस में भाई चारा और कौरव पांडवों जैसे सौहार्द्र  बना रहता है सभी एक दुसरे का हाल पूछते हैं और साथ में बैठ कर पैग का आनंद लेते हैं......... ....हमारी कम्प्यूटर की हार्ड डिस्क अभिमन्यु की तरह खेत रही...........इसे भी महारथियों मिल कर ठिकाने लगा दिया..............उसे अभी बदलने के लिए दिया है...............जब बदल कर आयेगी तब तक दोनों सेनाएं अपने अपने खेमे में आराम कर रही हैं.......... ...हार्ड डिस्क आते ही फिर युद्ध का मैदान सज जायेगा..... .. फिर वही दुश्मन कीट और मित्र कीट के बीच युद्ध प्रारंभ हो जायेगा..... ........ तब तक विश्राम करते है......... और आते हैं नयी उर्जा के साथ  ........... राम-राम 

अभी मैं यह पोस्ट अवधिया जी के कंप्यूटर से लिख रहा हूं.......... 

17 टिप्‍पणियां:

  1. एक फौज़ी न दिखाई देने वाले दुश्मन से हार गया । बहुत अफसोस है । कोई बात नहीं फिर सब कुछ ठीक हो जायेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ललित जी! जीवन तो एक महायुद्ध है जिसमें हार जीत लगी ही रहती है। किन्तु जो शौर्यवान होते हैं उनके लिये हार भी फूलों का हार बन जाता है और जीतने वाले मन मसोस कर रह जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भई जाने वालों को कौन रोक पाया है। ये मानिए कि ऊपरवाले ने उनकी इतनी ही लिखी थी। आपको इस प्रकार शोकसंत्पत होना शोभा नहीं देता बल्कि आपको तो गर्व होना चाहिए कि आपकी हार्डडिस्क(अपके कम्पयूटर की) कर्तव्यच्युत न होकर अन्तिम साँस तक लडते हुए वीरगति को प्राप्त हुई है।
    हे पार्थ तनिक धीर धरो!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओह बहुत दुःख हुआ सुनकर , श्रद्धांजली ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमको तो लगता है आपकी हार्ड डिस्क खुद ही कुल्हाडी पर जा गिरी?:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. ललित जी , टपके का डर शेर से भी ज्यादा होता है।
    एक ब्लोगर के लिए हार्ड डिस्क , कितना महत्त्व रखती है , पता चल रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आशा करता हूँ, बैक अप पूरा रखा होगा...शुभकामनाएँ. :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. संजय
    युद्ध में हारे हुए सैनिको की दशा का भी वर्णन करो शायद चिकित्सकीय सहारे की ज़रूरत हो.
    बहुत सुन्दर (क्षमा करें मै सुन्दर रचना को कह रहा हूँ, न कि इस वारदात को)
    विययी भव

    उत्तर देंहटाएं
  9. ललित जी
    पानीपत का युद्ध तो अब समाप्त हुआ . अब तो नई हार्डडिस्क लगाकर हल्दी घाटी का मैदान तैयार कीजिए और एंटी वाइरस महाराणा प्रताप सरीखा तैनात कीजिए जो कभी दुश्मन से हार नहीं माने |

    उत्तर देंहटाएं
  10. कीटो के हमलो से शहीद हार्ड डिस्क को शत शत नमन करता हूँ .... नई हार्ड डिस्क को च्यमनप्रास खिलवाये .... हार्ड डिस्क शतायु हो महाराज जी ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. भाई ये बेहद दुखद घटना है सुना है आपने नई कम्प्यूटरानी ले आये हैं

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप के यहाँ अवधिया जी तो हैं। हमारा क्या होगा?

    उत्तर देंहटाएं
  13. समचार तो दुखद है ...बहादुर सिपाही की बहादुर हार्डडिस्क की शहादत पर श्रद्धांजली,लेकिन अब नई हार्डडिस्क की सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध कीजियेगा साहब !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. sandesh praapt hua der se
    shaayad aa raha tha yah nagri andher se
    ham bhi कर lete हैं do minute ka maun dhaaran
    waise bhi आज "shani" mahraaj को maska lagaane
    ke liye rakhte हैं vrt, maun dharaan pashchaat
    karenge हम bhi paaran. hindi anuwad gmail wala kam nahi kar raha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  15. ललित भाई,
    ये कम्प्यूटर भी क्या करें...और अगर ब्लॉगर के पल्ले पड़ गए फिर तो बेचारों की शामत ही आ गई....फौजियों को भी कभी तो आराम मिलता है लेकिन ये कम्प्यूटर...एक सेकंड के लिए भी आराम नहीं...मेरे वाला भी आजकल बारात की घोड़ी की तरह नखरे दिखा-दिखा कर आगे बढ़ता है...


    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं