सोमवार, 1 मार्च 2010

ब्लागवाणी से एक प्रश्न-------यह क्यों हो रहा है?

ब्लाग वाणी पर एक चमत्कार हो रहा है और मेरी समझ में नहीं आ रहा कि क्यों और कैसे हो रहा है? २५/०२/२०१० को रात ९ बजे करीब मैंने ब्लाग वाणी खोली तो उस पर अजीज बरनी के ब्लाग पर मुझे राजकुमार सोनी की पोस्ट दिखाई दी.मैंने ब्लाग खोल कर देखा तो राजकुमार सोनी की ही पोस्ट खुल रही थी. तो मैंने राजकुमार सोनी को फोन लगाया कि अजीज बरनी के ब्लाग पर कब से लिखना शुरू कर दिया? वो अचम्भे में पड़ गए.......बोले ललित भाई मै तो नया आदमी हूँ मुझे नहीं मालूम ये क्या हुआ है? 
फिर मैंने मैंने दुबारा खोल उस ब्लाग को खोल कर देखा तो पोस्ट एरर बता रहा था. फिर मैं अपना काम करने लग गया. थोड़ी देर बाद देखा तो वही पोस्ट अब राजकुमार सोनी के ब्लाग पर लगी हुयी दिख रही है....इसके बाद मैंने ब्लाग्वनी रिफ्रेस किया तो अजीज बरनी का ब्लाग गायब हो चूका था ब्लाग वाणी  से.....उसके ऊपर नीचे लगी हुयी पोस्ट दिखाई दे रही थी.....चलो अब यह बात आई गयी हो चुकी थी.........मैंने भी कुछ लोगों से पूछा कि यह कैसे हुआ तो माकूल जवाब नहीं मिला.
अभी कल रात को होली जला के आने के बाद नेट शुरू किया और आदत के अनुसार ब्लाग वाणी रात १०:३० के आसपास खोला तो देखा कि ताऊ डोट कॉम पर पोस्ट दिखी "दूध वाले भैया".......मैंने सोचा की ताऊ जी की तो कोई पोस्ट इस समय तो नहीं आती. हो सकता है होली पर कोई विशेष पोस्ट लगाई हो... खोला तो वह पोस्ट किसी बलराम अग्रवाल जी के  ब्लाग अपना दौर पर  खुल रही थी........और यह पोस्ट कब तक ब्लाग वाणी पर रही फिर मैंने नहीं देखा. लेकिन आज नहीं दिख रही है.
मेरा प्रश्न ब्लाग वाणी से है कि किसी दुसरे के ब्लाग में उस ब्लाग का लेखक हुए बिना ही कैसे लेखक के तौर पर दिखाया गया ?..ब्लाग किसी का है और .....उसमे किसी और की पोस्ट दिख रही है........उसमे पोस्ट लेखक का भी नाम दिखाई दे रहा है? यह एक गंभीर मामला है...........ऐसा क्यों हो रहा है...........मैं सारे स्क्रीन शाट इसमें लगा रहा हूँ ----सब देख समझ सकते हैं कि क्या हुआ है? 

स्पष्ट देखने के लिए चित्र पर क्लिक करें 

25 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसी कितनी ही गड़बड़ियाँ दिखती हैं ब्लॉगवाणी में
    शायद वे ही कुछ बता पाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. भई ललित जी, ये तो बडा गम्भीर मामला दिखाई देता है...कल को अगर किसी की कोई एडल्ट पोस्ट यूँ म्हारे ब्लाग पे दिखने लगे तो हमारी तो इज्जत का दिवाला निकल गया समझो :-)
    जब तक पर्दा नहीं उठता..तब तक तो ये चमत्कार ही कहा जाएगा !

    उत्तर देंहटाएं
  3. महफ़िल तो गैर की हो
    और बात हो हमारी

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ विशेष नहीं भंग का सुरूर होगा होली पर। आप गंभीर न हों।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मामला तो गंभीर लगता है...वैसे अविनाश जी भी सही हो सकते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसा भी होता है? जानकारी के लिए धन्यवाद् - होली-मिलन की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारे ब्लॉग पर तो ब्लोगवाणी खुलता ही एक आध घंटे के लिए है ।
    क्या ये भी कोई चमत्कार है ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. शायद मसला ठीक कर लिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. होली की हार्दिक शुभकामनाए इस आशा के साथ की ये होली सभी के जीवन में
    ख़ुशियों के ढेर सरे रंग भर दे ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. होली पर आपको, आपकी बेहतर रचना को, दोनों को हार्दिक शुभकामनाएं........www.sansadji.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. भाईसाहब ब्लॉगवाणी पर ऐसे चमत्कार होना कोई नयी बात नहीं है आप यदि इनके खिलाफ़ कुछ लिख देंगे तो ये आपको या तो दिखाना बंद कर देंगे(यानि बिल्कुल चुपचाप बहिष्कार) या फिर आपको वयस्कों के कॉलम में डाल दिया जाएगा ताकि कम से कम लोग आप तक पहुंचें। हम लोग एक सामुदायिक हिन्दी ब्लॉग से जुड़े हैं लेकिन अब हम बहिष्कृत हैं क्योंकि हम कड़वे सच लिख देते हैं भड़ास के रूप में.....
    यदि आप वणिक प्रवृत्ति से समझौता करे रहें तो दुकान सही चलती रहेगी:)

    उत्तर देंहटाएं
  12. अंतरजाल की दुनिया में
    अजब गजब तमाशा है
    कहीं शक्कर की हार तो
    कहीं कहीं बताशा है
    अरे भाई अपनी चीज ही इस्तेमाल करो
    क्यों करते हो घुसपैठ
    ये क्यों नहीं सोचते
    यह ब्लॉग की प्यारी दुनिया
    कुछ ही दिनों में जायेगी बैठ

    उत्तर देंहटाएं
  13. ललित भाई की पैनी नजर
    से हुआ उजागर यह कृत्य
    कहीं तांडव न मच जाय
    फिर करते रही जायेंगे नृत्य

    उत्तर देंहटाएं
  14. @मुन्वर सुल्ताना जी,
    ना यह मेरा कड़ुवा सच है और ना भड़ास है,
    हम तो तकनीकि ज्ञान से शुन्य हैं
    एक दो से पुछा तो पता नही चला,
    इसलिए पोस्ट लगा कर पुछ लिया।
    अगर कोई बताए ना बताए,
    ब्लागवाणी वाले तो शंका समाधान कर ही देंगे,
    ऐसा मुझे विश्वास है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. @गिरीश जी,
    हम तो अभी भी टुन्न हैं,
    होली का आयटम अभी तक खतम नही हुआ है
    हमारी होली पंचमी तक चलेगी-
    अभी तो रहास होना बाकी है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. ललित जी
    ब्लोग्वानी में जितनी भी ब्लॉग पोस्ट प्रकाशित होती वह आर एस एस फीड के जरिये स्वत: प्रकाशित होती है जैसे हमारे ब्लॉग पर साइड बार में लगे ब्लॉग रोल विजेट में होती है , हो सकता है उसमे कभी कोई तकीनीकी खराबी आ जाती हो जिससे ऐसी स्थिति आ गयी हो और बाद में ठीक हो गयी हो |

    खामी आपके द्वारा उजागर करने पर ब्लॉग वाणी को भी इसे सुधारने में मदद मिलेगी |

    उत्तर देंहटाएं
  17. मुझे लगता है कि ब्लोग्बाणी शायद हमारे ब्लोग्स पर जावा स्क्रिप्ट अपडेट मांग रहा है ! आप जब कभी कोई नई पोस्ट लगाते है तो आपने नोट किया होगा कि पोस्ट करते वक्त कभी- कभी वह ऑप्शन साइड में एक छोटी विंडो के अन्दर दिखता भी है !

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. शायद ब्लोगवाणी के स्क्रिप्ट में कुछ खामी (bug) के कारण ऐसा हो रहा हो।

    उत्तर देंहटाएं
  20. वज्र गुणन टाइप कुछ हुआ होगा। लेकिन वे करके बतायेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  21. महफ़िल तो गैर की हो
    और बात हो हमारी

    उत्तर देंहटाएं